पूंजीवादी विरचना -२

हे मानवश्रेष्ठों,

यहां पर ऐतिहासिक भौतिकवाद पर कुछ सामग्री एक शृंखला के रूप में प्रस्तुत की जा रही है। पिछली बार हमने यहां सामाजिक-आर्थिक विरचनाओं के सिद्धांत के अंतर्गत पूंजीवादी विरचना पर चर्चा शुरू की थी, इस बार हम उसी चर्चा का समाहार करेंगे।

यह ध्यान में रहे ही कि यहां इस शृंखला में, उपलब्ध ज्ञान का सिर्फ़ समेकन मात्र किया जा रहा है, जिसमें समय अपनी पच्चीकारी के निमित्त मात्र उपस्थित है।


पूंजीवादी विरचना -२
(The Capitalist Formation – 2)

साम्राज्यवाद (imperialism) की लाक्षणिक विशेषताएं हैं: इजारेदारियों (monopolies) का प्रभुत्व, औद्योगिक-वित्तीय अल्पतंत्र (industrial-financial oligarchy) का सत्ता में आना, उपनिवेशों के पुनर्वितरण के लिए संघर्ष, वर्ग संघर्ष (class struggle) का तीव्रीकरण, मेहनतकशों के शोषण का गहनीकरण, आर्थिक तथा सामाजिक विकास की विषमता, आदि। जैसा कि पहले विश्वयुद्ध (१९१४-१९१८) से प्रदर्शित हुआ, साम्राज्यवाद की अवस्था में पूंजीवाद मनुष्यजाति के शांतिपूर्ण प्रगतिशील विकास को सुनिश्चित बनाने में अक्षम है। उसके सामाजिक अंतर्विरोध पराकाष्ठा तक तीव्र हो गये। रूस में, जो साम्राज्यवाद की प्रणाली में दुर्बलतम कड़ी साबित हुआ, १९१७ में एक समाजवादी क्रांति हुई और समाजवाद का निर्माण शुरू हुआ। यह पूंजीवाद के आम संकट की, विश्व पूंजीवादी प्रणाली के ध्वस्त होने की पहली मंज़िल थी।

दूसरे विश्वयुद्ध (१९३९-१९४५) के बाद, जिसे सबसे आक्रामक साम्राज्यवादी राज्यों ( फ़ासिस्ट जर्मनी, इटली और सैन्यवादी जापान ) द्वारा भड़काया गया था, पूंजीवाद के आम संकट की दूसरी अवस्था शुरू हुई। समाजवाद एक अकेले देश की सीमाओं से बाहर आ गया; एक ऐसी समाजवादी प्रणाली का विकास हुआ जिसमें यूरोप, एशिया और लैटिन अमरीका के कई देश शामिल हो गये। उपनिवेशी प्रणाली के ध्वस्त होने के फलस्वरूप कई आज़ाद देश अस्तित्व में आये, जिनमें से कई समाजवादी विकास के रास्ते पर चले।

आधुनिक पूंजीवाद, उस पूंजीवाद से मूलतः भिन्न है, जो २०वीं सदी के प्रारंभ तथा मध्य में था। राजकीय इजारेदार पूंजीवाद (state-monopoly capitalism) के अंतर्गत विराट पैमाने पर विकसित उत्पादक शक्तियों (production forces) और पूंजीवादी उत्पादन संबंधों के बीच अंतर्विरोध अधिकाधिक तीव्र होता जा रहा है। बेशक, इसका मतलब यह नहीं है कि उत्पादक शक्तियों और विशेषतः नवीनतम प्रविधि तथा टेक्नोलॉजी का विकास बंद हो गया है। इसके विपरीत जैव-तकनीक, इलैक्ट्रोनिकी, अंतरिक्ष व सूचना तकनीक पर्याप्त तेज़ी से विकसित हो रही हैं। तो प्रश्न उठता है कि यह अंतर्विरोध किसमें है? इसके नकारात्मक परिणाम स्वयं को कैसे व्यक्त करते हैं?

मुद्दा यह है कि बड़े पूंजीपति मुख्यतः उन उद्योगों का विकास कर रहे हैं, जिनसे अधिकतम मुनाफ़ा (profit), ऊंची प्रतियोगिता क्षमता और घरेलू व विश्व बाज़ार में प्रभुता (dominance) हासिल होती है। और उनमें, मुख्यतः वे सब शामिल हैं, जो समाज के सैन्यीकरण (militarisation) को बढ़ावा देते हैं और पूंजीवादी राज्यों की सैनिक शक्ति को बढ़ाते हैं। बड़ी इजारेदारियां स्वयं अपने देशों के और इससे भी अधिक विकासशील देशों के मेहनतकशों के हितों पर कोई ध्यान नहीं देती है। पूंजीवाद की दशाओं में कंप्यूटरीकरण तथा रोबोटीकरण से बेरोजगारी में अभूतपूर्व बढ़ती हो जाती है। पश्चिम के प्रमुख विशेषज्ञों के पूर्वानुमान ठीक इसी बात का संकेत देते हैं।

एक नकारात्मक परिणाम और भी है। पूंजीवादी समाजों में विकास की दरें उससे कहीं नीची होती हैं, जो सामाजिक स्वामित्व (social ownership) पर आधारित उत्पादन संबंधों के अंतर्गत हो सकती हैं। पूंजीवादी विकास में बढ़ती हुई मंदियां (slumps), चक्रिक (cyclic) और संरचनात्मक संकट, बढ़ते हुए राजकीय ऋण, बजट के घाटे तथा बेलगाम मुद्रास्फीति (inflation) शामिल होती है। इसके साथ ही पूंजी, संकेन्द्रित और अंतर्राष्ट्रीयकृत होती जा रही है तथा विश्वभर के जनगण का शोषण करने तथा विकासशील और विकसित पूंजीवादी देशों की अर्थव्यवस्थाओं पर भी नियंत्रण रखनेवाले बहुराष्ट्रीय कॉरपोरेशन अधिकाधिक शक्तिशाली होते जा रहे हैं। आधुनिक समाज की विराट संपदा तथा वैज्ञानिक और तकनीकी उपलब्धियों को सामाजिक न्याय की उपलब्धि, ग़रीबी का उन्मूलन करने तथा विभिन्न ऐतिहासिक कारणों से अपने विकास में पिछड़े हुआ देशों और जातियों को सहायता देने के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है, परंतु पूंजीवाद के अंतर्गत ऐसा करना असंभव है

समसामयिक पूंजीवादी समाज के नेतागण इन अंतर्विरोधों की तीक्ष्णता को घटाने और उनके प्रतिकूल प्रभावों को मिटाने के प्रयत्न में विभिन्न आर्थिक तथा राजनीतिक तिकड़मों का सहारा लेते हैं। किंतु आधुनिक पूंजीवाद के गहरे प्रतिरोधी अंतर्विरोधों (antagonistic contradictions) से निबटने के लिए समाज में आमूल सामाजिक सुधारों की ज़रूरत है।


इस बार इतना ही।
जाहिर है, एक वस्तुपरक वैज्ञानिक दृष्टिकोण से गुजरना हमारे लिए संभावनाओं के कई द्वार खोल सकता है, हमें एक बेहतर मनुष्य बनाने में हमारी मदद कर सकता है।
शुक्रिया।

समय अविराम

Advertisements

1 टिप्पणी (+add yours?)

  1. Trackback: साम्यवादी विरचना – १ | समय के साये में

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: