समाज के विकास तथा कार्यात्मकता के आधार के रूप में उत्पादन पद्धति – २

हे मानवश्रेष्ठों,

यहां पर ऐतिहासिक भौतिकवाद पर कुछ सामग्री एक शृंखला के रूप में प्रस्तुत की जा रही है। पिछली बार हमने यहां समाज के विकास तथा कार्यात्मकता के आधार के रूप में उत्पादन पद्धति पर चर्चा शुरू की थी, इस बार हम उसी चर्चा को आगे बढ़ाएंगे।

यह ध्यान में रहे ही कि यहां इस शृंखला में, उपलब्ध ज्ञान का सिर्फ़ समेकन मात्र किया जा रहा है, जिसमें समय अपनी पच्चीकारी के निमित्त मात्र उपस्थित है।


समाज के विकास तथा कार्यात्मकता के आधार के रूप में 

उत्पादन पद्धति – २

(mode of production – the basis of the development and functioning of society – 2)

उत्पादन कार्य करते समय लोग उत्पादन के संबंधों की स्थापना में भाग लेते हैं, जो उनके संकल्प ( will ) व चेतना ( consciousness ) पर निर्भर नहीं होते। उत्पादन संबंध उत्पादन, वितरण, विनिमय और उपभोग की प्रक्रिया में लोगों के बीच बनने वाले संबंध हैं। अतः भौतिक संपदा के उत्पादन की प्रक्रिया या उत्पादन की प्रणाली के दो अंतर्संबंधित पक्ष होते हैं – उत्पादक शक्तियां ( productive forces ) और उत्पादन के संबंध ( relations of production )। उत्पादक शक्तियां उत्पादन पद्धति की अंतर्वस्तु हैं और उत्पादन के संबंध उसका रूप हैं। अंतर्वस्तु किसी भी घटना का निर्धारक या प्रमुख पक्ष होती है। लेकिन रूप भी एक महत्वपूर्ण सक्रिय भूमिका अदा करता है। यह घटना के अनुरूप होने पर उसके विकास को बढ़ावा देता है और जब यह अनुरूपता गड़बड़ा जाती है तो यह विकास में बाधक बन जाता है।

उत्पादन पद्धति के दो पक्षों के बीच एक वस्तुगत ( objective ) व अनिवार्य, यानी नियमसंचालित संबंध होता है। इस संबंध को ऐतिहासिक भौतिकवाद के संस्थापकों ने खोजा, उसका अध्ययन किया और उसे उत्पादन पद्धति के विकास का संचालन करनेवाले विशेष वस्तुगत नियम की शक्ल में निरूपित किया। इस नियम को उत्पादक शक्तियों के स्वभाव तथा विकास स्तर के साथ उत्पादन संबंधों की अनुरूपता ( correspondence ) का नियम कहते हैं। यह इस बात पर बल देता है कि उत्पादन संबंध, उत्पादक शक्तियों के जितने ज़्यादा अनुरूप हों भौतिक उत्पादन उतनी ही सफलता से विकसित होता है। परंतु यह अनुरूपता, निरपेक्षतः पूर्ण तथा स्थिर कभी नहीं होती है। किसी भी उत्पादन पद्धति के सर्वाधिक गतिशील पक्ष ( mobile side ) होने के नाते उत्पादक शक्तियां, देर-सवेर, अपने विकास में उत्पादन संबंधों से आगे निकल जाती हैं। उनके बीच अननुरूपता ( non-conformity ) या सांमजस्यहीनता ( disharmony ) उत्पन्न हो जाती है। उत्पादन संबंध, अपरिवर्तित रहकर उत्पादन में प्रेरक बल ( motive force ) होने की बजाय उसमें बाधक हो जाते हैं और तब नये उत्पादन संबंध बनाने की वस्तुगत आवश्यकता पैदा हो जाती है। इसके फलस्वरूप एक नयी उत्पादन पद्धति ( mode of production ) उत्पन्न होती है और साथ ही साथ सारे सामाजिक संबंध तथा सामाजिक क्रियाकलाप के अन्य सारे रूपों में भी बदलाव हो जाता है।

जैसा कि हम देखते हैं, उत्पादन संबंध, उत्पादन पद्धति के विकास तथा परिष्करण में अत्यंत महत्वपूर्ण भूमिका अदा करते हैं। जब हम कहते हैं कि ये संबंध लोगों के संकल्प तथा इच्छाओं से स्वतंत्र रूप में स्थापित होते हैं, तो हम उनके वस्तुगत, भौतिक स्वभाव ( material character ) पर बल देते हैं। किंतु, आख़िरकार, एक दूसरे के साथ संबंध क़ायम करते हुए, उदाहरणार्थ, सहयोग के या प्रतिद्वंद्विता और प्रतियोगिता के, पारस्परिक सहायता या संघर्ष के संबंध क़ायम करते हुए लोग यह समझते हैं कि वे क्या कर रहे हैं और उन्हें अपने कर्मों के बारे में कुछ न कुछ हद तक ज्ञान होता है। तो हम यह कैसे कह सकते हैं कि उत्पादन पद्धति की प्रक्रिया में बने उनके संबंध वस्तुगत होते हैं?

आइये, उत्पादन संबंधों पर कुछ अधिक विस्तार से विचार करें। उनके निम्नांकित घटक हैं : (१) उत्पादन के बुनियादी साधनों, सर्वोपरि, श्रम के उपकरणों पर स्वामित्व ( ownership ) के संबंध, (२) उत्पादन की प्रक्रिया में उत्पन्न प्रत्यक्ष संबंध, और अंतिम (३) श्रम के उत्पादों के वितरण ( distribution ) से जुड़े संबंध, यानी वितरण के संबंध। उत्पादन के इन सारे संबंधों में निर्धारक है स्वामित्व के संबंध ( property relations ), शेष सब उन पर आश्रित हैं। सामाजिक विकास की किसी भी अवस्था में विद्यमान उत्पादन पद्धति की क़िस्म भी, स्वामित्व की क़िस्म पर निर्भर होती है। स्वामित्व के प्रकारों में भेद के अनुरूप ही उत्पादन पद्धति की पांच मुख्य क़िस्में हैं : आदिम-सामुदायिक, दास-प्रथात्मक, सामंती, पूंजीवादी और समाजवादी।

यह समझना महत्वपूर्ण है कि स्वामित्व, जैसा कि पूंजीवादी दार्शनिक और अर्थशास्त्री कहते हैं, वस्तुओं का विशिष्ट लक्षण नहीं है। एक ही मशीन पूंजीवादी व्यवस्था में निजी संपत्ति है और समाजवादी व्यवस्था में सामाजिक संपत्ति। स्वामित्व, उत्पादन के साधनों के संदर्भ में संबंध का एक विशेष रूप है, जो वस्तुगत ऐतिहासिक आवश्यकता के फलस्वरूप लोगों के बीच स्थापित होता है और जो समाज की उत्पादक शक्तियों के विकास के स्वभाव और स्तर पर निर्भर होता है। मसलन, आदिम समाज में पत्थर के औज़ारों का अस्तित्व था, उस हालत में लोग निजी संपत्ति ( private ownership ) तथा पूंजीवादी मुनाफ़े के विनियोजन ( appropriation ) पर आधारित पूंजीवादी संबंधों की स्थापना नहीं कर सकते थे। उस काल में विद्यमान उत्पादक शक्तियों के निम्न स्तर के लिए मुनाफ़े के उत्पादन को सुनिश्चित बनाना असंभव था। इसलिए, उत्पादन के साधनों पर आम स्वामित्व ( common ownership ) पर आधारित आदिम समाज के सामूहिक संबंध उन आदिम लोगों के संकल्प तथा उनकी चेतना द्वारा नहीं, बल्कि भौतिक उत्पादन की शक्तियों के विकास के स्वभाव तथा स्तर के अनुरूप बने थे।


इस बार इतना ही।
जाहिर है, एक वस्तुपरक वैज्ञानिक दृष्टिकोण से गुजरना हमारे लिए संभावनाओं के कई द्वार खोल सकता है, हमें एक बेहतर मनुष्य बनाने में हमारी मदद कर सकता है।
शुक्रिया।

समय अविराम

Advertisements

1 टिप्पणी (+add yours?)

  1. Trackback: समाज के विकास तथा कार्यात्मकता के आधार के रूप में उत्पादन पद्धति – ३ | समय के साये में

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: