व्यवहार – संज्ञान का आधार और कसौटी – २

हे मानवश्रेष्ठों,

यहां पर द्वंद्ववाद पर कुछ सामग्री एक श्रृंखला के रूप में प्रस्तुत की जा रही है। पिछली बार हमने संज्ञान के द्वंद्वात्मक सिद्धांत के अंतर्गत संज्ञान के आधार और कसौटी के रूप में व्यवहार पर चर्चा शुरू की थी, इस बार हम उसी चर्चा को आगे बढ़ाएंगे ।

यह ध्यान में रहे ही कि यहां इस श्रृंखला में, उपलब्ध ज्ञान का सिर्फ़ समेकन मात्र किया जा रहा है, जिसमें समय अपनी पच्चीकारी के निमित्त मात्र उपस्थित है।


व्यवहार – संज्ञान का आधार और कसौटी – २
( practice – basis and criterion of cognition – 2 )

images (1)मनुष्य का कार्यकलाप ( activity ) दो प्रकार का होता है, जिनके बीच आपस में घनिष्ठ संबंध है – वस्तुपरक ( objective ) कार्यकलाप और आत्मपरक ( subjective ) कार्यकलाप। वस्तुपरक कार्यकलाप समस्त सामाजिक तथा उत्पादन संबंधी व्यवहार को कहते हैं, क्योंकि वह उन नियमों के आधार पर संपन्न किया जाता है, जो आत्मपरक इरादों ( intentions ) या लोगों की इच्छा पर निर्भर नहीं होते। मिसाल के लिए, हथौड़े से पानी को नहीं गढ़ा जा सकता है या स्पंज के टुकड़े से कील नहीं ठोकी जा सकती है। इसी तरह निजी स्वामित्व ( private ownership ) पर आधारित समाज में वर्ग संघर्ष को भी ख़त्म नहीं किया जा सकता है। अपने उत्पादन कार्यकलाप में मनुष्य प्रकृति के साथ अन्योन्यक्रिया ( mutual interaction ) करते हुए सबसे पहले उन वस्तुओं और औज़ारों के वस्तुगत गुणों पर आश्रित होता है, जिनसे उसे काम पड़ता है। निस्संदेह, वह सचेतन ढंग से अपने सामने कोई लक्ष्य रखता है, अपनी हरकतों और कामों के महत्त्व को जानता है, परंतु मुख्य और निर्णायक भूमिका उन परिस्थितियों और नियमों की ही होती है, जिनसे ये हरकतें और काम, इच्छा और चेतना के बावजूद, निदेशित ( directed ) होते हैं।

द्वंद्वात्मक भौतिकवाद ( dialectical materialism ) के प्रवर्तकों ने बल देते हुए कहा था कि लोगों का आत्मपरक ( subjective ), यानी संज्ञानकारी कार्यकलाप ( cognitive activity ) आरंभ में उनके वस्तुपरक ( objective ), वस्तुओं और औज़ारों से संबंधित व्यावहारिक कार्यकलाप से गुंथा हुआ था। विकास के काफ़ी परवर्ती चरण ( later stage ) में ही वह उससे अलग हुआ। जंगली मनुष्य और बच्चे की विचारशक्ति की तुलना करने पर हम पायेंगे कि चिन्तन के सामान्यतम रूप, प्रेक्षण की योग्यता और वस्तुओं की समानता या अंतर को पहचानने की क्षमता, वस्तुओं के प्रत्यक्ष इस्तेमाल ( direct use ) के आधार पर ही पैदा होते हैं। किंतु यह नहीं सोचना चाहिए कि व्यवहार ( practice ) का सहारा लेने मात्र से संज्ञान ( cognition ) से संबंधित जटिल समस्याएं पूरी तरह हल हो जायेंगी।

विज्ञान तथा दैनंदिन जीवन में पैदा होनेवाले बहुत ही विविध प्रश्नों का पूर्ण और अंतिम उत्तर खोजने का प्रयास संज्ञान के प्रति तत्वमीमांसीय उपागम ( approach ) की एक मूल विशेषता है। ऐसे बहुत से उत्तर हमें निर्विवाद प्रतीत हो सकते हैं और दैनंदिन, सीमित कार्यकलाप की कसौटी पर खरे भी उतर सकते हैं। किंतु जैसा कि कहा भी गया है, “मनुष्य की सामान्य बुद्धि ( common sense ), जो घर की चहारदीवारी में बहुत ही सम्माननीय साथी होती है, ज्यों ही अनुसंधान ( research ) की व्यापक दुनिया में क़दम रखने का साहस करती है, उसे बहुत ही तरह-तरह के अप्रत्याशित अनुभवों ( unexpected experiences ) से गुज़रना पड़ता है।”

हमारे संज्ञान के परिवर्तन का स्वरूप भी व्यवहार के रूपों की विशेषताओं पर निर्भर होता है। जहां ये रूप अपेक्षाकृत स्थायी होते हैं और किन्हीं क्रियाओं में दशकों या सदियों तक दोहराये जाने की प्रवृत्ति पायी जाती है, वहां उनके आधार पर पैदा होनेवाला ज्ञान भी उसी तरह स्थायी और अपरिवर्तनीय सा प्रतीत होता है। मगर व्यावहारिक कार्यकलाप ( practical activity ) में गंभीर परिवर्तन आये नहीं कि लोगों के उससे संबंधित ज्ञान को बदलते भी देर न लगेगी। सच तो यह है कि व्यवहार बहुत ही बहुविध होता है, उसमें अनिश्चितता ( uncertainty ) का पुट होता है और इतने तरह-तरह के गुण, लक्षण और व्यक्तिगत विशेषताएं पायी जाती हैं कि हम लाख कोशिश करने पर भी उन सबका ज्ञान सदा के लिए हासिल नहीं कर सकते। व्यवहार की यह अनिश्चितता, परिवर्तनशीलता और गतिशीलता ही संज्ञान का एक सबसे महत्त्वपूर्ण कारक है। व्यवहार इतना अनिश्चित है कि वह हमारे ज्ञान को स्थिर होने या रुकने नहीं देता। तो क्या ऐसी स्थिति में वह ज्ञान की कसौटी ( criterion ) बन सकता है?


इस बार इतना ही।
जाहिर है, एक वस्तुपरक वैज्ञानिक दृष्टिकोण से गुजरना हमारे लिए संभावनाओं के कई द्वार खोल सकता है, हमें एक बेहतर मनुष्य बनाने में हमारी मदद कर सकता है।
शुक्रिया।
समय अविराम

Advertisements

2 टिप्पणियाँ (+add yours?)

  1. oshrivastava
    फरवरी 14, 2015 @ 18:33:57

    Reblogged this on oshriradhekrishnabole.

    प्रतिक्रिया

  2. Trackback: व्यवहार – संज्ञान का आधार और कसौटी – ३ | समय के साये में

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: