प्रेमपात्र के चुनाव में सांयोगिकता की पृष्ठभूमि

हे मानवश्रेष्ठों,

काफ़ी समय पहले एक युवा मित्र मानवश्रेष्ठ से संवाद स्थापित हुआ था जो अभी भी बदस्तूर बना हुआ है। उनके साथ कई सारे विषयों पर लंबे संवाद हुए। अब यहां कुछ समय तक, उन्हीं के साथ हुए संवादों के कुछ अंश प्रस्तुत किए जा रहे है।

आप भी इन अंशों से कुछ गंभीर इशारे पा सकते हैं, अपनी सोच, अपने दिमाग़ के गहरे अनुकूलन में हलचल पैदा कर सकते हैं और अपनी समझ में कुछ जोड़-घटा सकते हैं। संवाद को बढ़ाने की प्रेरणा पा सकते हैं और एक दूसरे के जरिए, सीखने की प्रक्रिया से गुजर सकते हैं।


प्रेमपात्र के चुनाव में सांयोगिकता की पृष्ठभूमि

एक सवाल है प्रेम पर। जैसाकि आपने कहा है और मैं सबको सही मानता हूँ लेकिन ऐसा लोग कहते हैं कि दस सुन्दर व्यक्ति हैं तब भी आपका प्रेमपात्र कोई एक ही क्यों? और अगर शरीर महत्व का है तब प्रेमपात्र से बहुत सुन्दर शरीर के लोग होग सामने होते हुए भी और अन्य सभी गुणों में भी प्रेमपात्र से आगे होते हुए भी एक ही व्यक्ति क्यों और कैसे पसन्द आ जाता है। कुछ तो समझ में आया लेकिन ये सवाल है।

इस चीज़ को आप यदि दूर से, निरपेक्षता से देखेंगे तो इसे समझने में इस तरह के भ्रम पैदा हो सकते हैं। जब हम चीज़ों को समझने की प्रक्रिया में होते हैं, तो हमें उस संदर्भ में उदाहरण के तौर पर मिलती जुलती प्रक्रियाओं को दूरस्थ परिवेश की जगह अपने पास के, अपनी ख़ुद की ज़िंदगी, या अपनी ज़िंदगी के निकट और जुड़ी हुई चीज़ों और प्रक्रियाओं पर दृष्टिपात करना चाहिए।

प्रेम की भावना भी, अन्य भावनाओं की तरह ही मनुष्य की जैविक और जीवनीय आवश्यकताओं और उनकी तुष्टि की संभावनाओं के आधार पर ही पैदा होती और परवान चढ़ती है

हम देखते हैं ( और हमें अपने स्वयं के जीवन में झांकना चाहिए, अपनी ख़ुद की भावनाओं की पडताल करनी चाहिए ) कि अक्सर प्रेम दो ऐसे विपरीत लिंगियों के बीच में पनपता है, जो किसी ना किसी रूप में एक दूसरे के साथ अंतर्संबद्ध हैं, यानि कि उनके बीच ऐसे संबंध पनपने की संभावनाएं है। अक्सर वे एक दूसरे के परिचित परिवेश के होते हैं, अडौस-पडौस के, एक ही गांव के आदि, यानि कि जहां उनकी दैनिक आपसी अंतर्क्रियाएं सम्पन्न होती हों। यह स्वाभाविक परिणति है।

यानि किन्हीं भी दस को खड़े करने और उनमें से चुनने की बात नहीं है, यह स्वाभाविक प्रक्रिया नहीं होगी वरन अपने किन्हीं सौन्दर्यबोध के प्रतीकों के चलते प्रबलीकृत ( forced ) आकांक्षाएं होंगी। यह अधिकतर सक्रियता का दायरा बढ़ने और समझ बढ़ने के बाद की नियतियां है। जैसे कि स्कूल या कॉलेजों में सहपाठी विपरीत लिंगियों के बीच संभावनाएं होती हैं। वहां अक्सर आपको ऐसे लड़के या लड़कियां मिल जाएंगी जो किसी ना किसी गुण को लक्षित करके, जिसमें अधिकतर दिखता सौन्दर्य शामिल होता है, किसी को अपने प्रेम का लक्षित बना लेते हैं, एकतरफ़ा भावनाएं पाल लेते हैं। पर यदि उनके बीच संपर्क नहीं है, तो बात को आगे बढ़ने की नौबत नहीं आने पाती।

एक दूसरे के प्रति जिम्मेदारी, लगाव और समरसता की भावना के रूप में शुरुआती आकर्षण तभी ढल सकता है जब उनके बीच अंतर्क्रिया होती हों, एक दूसरे के गुणों और व्यवहार के बीच धीरे-धीरे सम्मान और संपात की स्थिति पैदा होती हो।

यानि कि मनुष्य यदि दस व्यक्तियों को अपने सामने खड़ा करके किसी एक का चुनाव सांयोगिक रूप से करता हुआ लगता हो, और यह प्रश्न खड़ा होता हो कि वही क्यों? तो हमें यह समझना होगा कि चुनाव की इस सांयोगिकता के पीछे उस व्यक्ति के सौदर्यबोध के अपने मानदंड़ ( standards ) और अंतर्संबधों के बारे में उसकी मान्यताएं जाने-अनजाने पीछे से महत्त्वपूर्ण भूमिकाएं निभा रही होती हैं।

सुंदरता के भी अपने-अपने मानदंड बन जाते हैं, और वह उन्हीं से मिलते जुलते संरूपों को पसंद करता है। हो सकता है कि कोई ऐश्वर्या की सुंदरता के आगे, दीप्ति नवल को प्राथमिकता देता हो। किसी को मासूम मुस्कुराहट में दिलचस्पी हो सकती है, किसी को शक्ल या उसके अंगों की एक खास बनावट में, कोई घरेलू मासूमियत के भावों को वरीयता देता हो वहीं कोई सैक्सी दर्शनीयता को, किसी के मन में छरहरता ( slimness ) की संकल्पना ज़्यादा हावी हो सकती है, आदि-आदि। यानि कि उसका चुनाव इन्हीं जैसी कई चीज़ों पर निर्भर होता है, ना कि एकदम सांयोगिक और किसी दैवीय या रहस्यमयी प्रेरणा के।

आप देखेंगे कि शुरुआती आकर्षण और चुनाव में शारीरिक गुणों की महती भूमिका होती है, पर असली परीक्षा तो आपसी अंतर्क्रियाओं में, यानि व्यक्तित्व के आंतरिक व्यावहारिक गुणों के परीक्षण में होती है। आपके पास ऐसे कई उदाहरण होंगे, जिनमें कुछ ही मुलाकातों में शारीरिक आकर्षण गायब हो जाता है और व्यवहार की एकरसता नहीं पैदा हो पाने के कारण अलगाव हो जाता है। ऐसा भी होता है, कि शारीरिक आकर्षण या किन्हीं विशेष गुणों पर व्यक्ति की दीवानगी के कारण, वह दूसरी चीज़ों को जबरन स्थगित करता रहे और संबंधों को आगे बढ़ाता रहे। पर ऐसे में यह भी अवश्यंभावी है कि फिर उनकी तुष्टि होते ही, मोहभंग पैदा हो सकता है, और बाकी ज़मीनी सच्चाइयां हावी होने लगती है और बहुत बाद में भी अलगाव की संभावनाएं होती है।

व्यक्ति किसी विशेष सौन्दर्य का उपासक होने के नाते, अडौस-पडौस में स्थित कई सारे विपरीत लिंगियों में से अपनी मानदंड़ों के अनुसार किसी एक का सचेतन चुनाव कर सकता है, परंतु होता यह है कि उस विपरीत लिंगी के भी इसी चुनाव के मामले में अपने मानदंड होते है जो जरूरी नहीं कि संपाती हो जाएं। तो जाहिर है कुछ शुरुआती अंतर्क्रियाओं के बाद ही शनैः शनैः जाने-अनजाने में, यह छंटनी की प्रक्रिया चलती है और किसी एक व्यक्ति के साथ बाह्य और आंतरिक गुणों के बीच एक सामंजस्य, एक सहजता स्थापित हो जाती है। और हम इसे निरपेक्ष रूप से देखते वक्त इसकी गहराई में जाने के बजाए सिर्फ़ एक रहस्यमयी, पहले से नियत संयोग के रूप में देख सकते हैं। जैसी कि प्रवृत्ति आपके सवाल में परिलक्षित हो रही है।

तो यदि आप इसी दिशा में और चिंतन-मनन करेंगे, तो शायद आप समझ पाएंगे कि किसी दैवीय या रहस्यमयी प्रेरणा की उपस्थिति के असली मायने क्या हैं। शायद इसे हेतु हम पर्याप्त इशारे कर पाए हों। कोई और शंका हो तो बात आगे बढ़ाई जा सकती है।


इस बार इतना ही।
आलोचनात्मक संवादों और नई जिज्ञासाओं का स्वागत है ही।
शुक्रिया।

समय

Advertisements

प्रतिक्रियात्मक व्यवहार का नियंत्रण

हे मानवश्रेष्ठों,

काफ़ी समय पहले एक युवा मित्र मानवश्रेष्ठ से संवाद स्थापित हुआ था जो अभी भी बदस्तूर बना हुआ है। उनके साथ कई सारे विषयों पर लंबे संवाद हुए। अब यहां कुछ समय तक, उन्हीं के साथ हुए संवादों के कुछ अंश प्रस्तुत किए जा रहे है।

आप भी इन अंशों से कुछ गंभीर इशारे पा सकते हैं, अपनी सोच, अपने दिमाग़ के गहरे अनुकूलन में हलचल पैदा कर सकते हैं और अपनी समझ में कुछ जोड़-घटा सकते हैं। संवाद को बढ़ाने की प्रेरणा पा सकते हैं और एक दूसरे के जरिए, सीखने की प्रक्रिया से गुजर सकते हैं।


प्रतिक्रियात्मक व्यवहार का नियंत्रण

आपने कहा था कि मैं अतिरिक्त सचेत होने लगता हूँ, तब असहजता आ जाती है और यह भी कहा था कि मैं अतिरिक्त ध्यान न दूँ। भला यह कैसे होगा? ध्यान कम जाय या न जाय, इसके लिए क्या करें?

ध्यान देना या नहीं देना, किसी चीज़ के प्रति सचेत होना या ना होना, उस चीज़ के प्रति आपके कन्सर्न्स, उसके प्रति आपके रवैये पर निर्भर करती है। यदि उसके साथ आपके कन्सर्न्स है, आप उसके प्रति लगाव या महत्त्वपूर्णता का रवैया रखते हैं तो आप कितनी भी कोशिशे कीजिए, आपका ध्यान उधर बरबस जाता ही रहेगा, आप उसके प्रति सचेत होते ही रहेंगे। इसका मतलब यह हुआ कि चीज़ों के प्रति अपने कन्सर्न्स, अपने संबंधों को बदले बिना, उनके प्रति अपने रवैयों को बदले बिना उन पर ध्यान जाना या उनके प्रति सचेत होना ख़त्म किया नहीं जा सकता। बिना संबंधों और रवैयों को बदले किन्हीं चीज़ों से सिर्फ़ ध्यान हटाने की कोशिश करना एक आध्यात्मिक कोशिश करने की तरह है जो व्यावहारिक रूप से संभव ही नहीं है। यह पलायन है, हल या निपटारा नहीं।

जैसे कि मान लीजिए हमें अपना मज़ाक उड़ाए जाने पर क्रोध आता है। क्रोध इसलिए आता है क्योंकि हम अपने अहम् को, अपनी इज्ज़त को, अपने आत्मसम्मान को बहुत ही अधिक महत्त्व देते हैं और किन्हीं भी परिस्थितियों में इनके साथ समझौता करने का रवैया नहीं रखते। इसलिए हम इस बात के प्रति बहुत सचेत रह सकते हैं कि इस पर कोई आंच नहीं आए। जरा भी कोई ऐसी परिस्थितियां बनती हैं जिनसे हमारी इज्ज़त, अहम् और आत्मसम्मान पर कोई खतरा महसूस होता है हम असहज होने लगते हैं, थोड़ा अधिक होने पर हम क्रोध में आ जाते हैं और अगर स्थितियां ज़्यादा बिगड़ जाएं तो हमारा व्यवहार अधिक ही उग्र हो सकता है।

अब यदि हम अपनी इस आदत या क्रोध की प्रतिक्रिया को बदलना चाहते हैं। सामान्यतः किया यह जाता है कि हम ऐसी स्थितियों से बचने की कोशिश करने लगते हैं, ऐसी स्थितियां बनती लगने पर वहां से खिसक लेना चाहते हैं, कुछ हो भी जाए और हमें क्रोध आने भी लगे तो उस क्रोध से लड़ने लगते हैं, जबरन उस स्थान पर, उन लोगों पर आ रहे क्रोध को दबाने की कोशिश करते हैं। कुछ तरीकों के अनुसार कुछ लोग गिनती गिनने लग सकते हैं, गाना गुनगुनाने लग सकते हैं। तात्कालिक रूप से इस तरह के तरीक़े कारगर से लग सकते हैं, पर वास्तव में होते नहीं। क्योंकि यहां मूल कारण वहीं हैं, उसकी प्रतिक्रियास्वरूप पैदा हुआ क्रोध भी वहीं है, सिर्फ़ उसके तात्कालिक रूप से प्रदर्शन को स्थगित किया जा रहा है, हमारी बन चुकी स्वाभाविक प्रतिक्रिया को दबाया, उसका दमन किया जा रहा है। इससे और भी कई मनोवैज्ञानिक समस्याएं पैदा हो सकती हैं, यह दबाया हुआ क्रोध और कहीं निकल सकता है।

इसके स्थायी हल वही हो सकते है जैसा कि ऊपर कहा गया था, हालांकि वह एक लंबी और कठिन प्रक्रिया है पर समाधान वही हैं। यानि हमें अपनी स्वभाव बन गई प्रवृत्तियों, कन्सर्न्स, हमारे रवैयों से आंतरिक लड़ाई करनी पड़ेगी। हमें समझना होगा कि इज्ज़त, अहम् और आत्मसम्मान क्या चीज़ होते हैं, इनकी हमारे जीवन और बाकी समाज और परिवेश के साथ अंतर्संबंधों में इनकी कितनी महत्त्वपूर्णता भूमिका होती है, समझनी चाहिए। हमें तुलना करना सीखना पड़ेगा कि कब आत्मसम्मान महत्त्वपूर्ण होता है और कब बाकी चीज़ें, मतलब सामने वाला व्यक्ति, उसके साथ हमारे संबंध। हमें भी यह भी समझना होगा कि क्या वास्तव में हमारा आत्मसम्मान एक छुईमुई की तरह है जिसे किसी का भी जरा सा स्पर्श मुरझा सकता है। क्या इसे अधिक लचीला और मजबूत नहीं होना चाहिए जिस पर छोटे-मोटे मज़ाक कोई असर ना डाल पाएं। यानि हमें हमारे आत्मसम्मान के प्रति हमारे कन्सर्न्स, संबंधों को समझना और बदलना होगा।

दूसरी बात हमें ऐसे हालात में अपने प्रतिक्रियात्मक रवैयों को भी समझना होगा। हमें देखना होगा कि हमारी प्रतिक्रियाएं किस-किस तरह की अनैच्छिक स्थितियों को पैदा कर देती है, हमें, हमारे व्यक्तित्व को किस तरह सबके सामने कमजोरी या मखौल का विषय बना सकती है, कैसे हमारी प्रतिक्रियाएं हमारे सामाजिक अस्तित्व से मेल नहीं खाती और हम एक गैरजिम्मेदाराना असामाजिक व्यवहार करने लग सकते हैं। हमें हमारे रवैयों को अधिक जिम्मेदार, अधिक सामाजिक बनाना सीखना होगा। यानि इन्हें भी समझना और बदलना होगा।

जब आत्मसम्मान के प्रति हमारे कन्सर्न्स और हमारे रवैये में धीरे-धीरे ही सही उचित बदलाव किये जाएंगे तभी यह संभव हो सकेगा कि प्रतिकूल परिस्थितियां पैदा होने पर भी हमें वाकई में क्रोध ही नहीं आए, उन्हें हम सहजता से लेना सीख सकें, हमारे प्रतिक्रियात्मक व्यवहार का नियंत्रण करना सीख सकें। एक बेहतर मनुष्य बन सकें।

शायद अब आप समझ सकते हैं कि आपको जिन चीज़ों से तकलीफ़ पैदा होती है, जिनके प्रति आपमें सचेतनता पैदा होती है, असहजता आती है, उन चीज़ों के प्रति अपने संबंधों और रवैयों में बदलाव ही वैसी स्थितियां पैदा कर सकता है कि आपका उन पर ध्यान ही ना जाए।

जैसे कि, जब हमने अपने आपको इस बात के प्रति भली-भांति मुतमइन कर लिया है और इसको व्यवहार में उतार लिया है कि व्यक्ति का पहनावा उसके आंतरिक व्यक्तित्व का आइना नहीं होता और बाहरी प्रस्तुति कोई मायने नहीं रखती तो आपका ध्यान लोगों के पहनावे पर जाएगा ही नहीं कि किसने किस वक़्त क्या पहना था, आपने क्या पहना था। अब आप यदि आप मानते हैं कि इससे फर्क पड़ता है, आप भी इन्हीं चीज़ों के हिसाब से व्यक्तित्व का मूल्यांकन किया करते हैं तो आप कितना भी कोशिश करलें, आपका ध्यान लोगों के पहनावों पर जाता ही रहेगा।

यदि हमको लगता है कि हमारी असफलता, हमसे हुई कोई हरकत से हमारी छवि, जिसे कि हम बहुत महानता के साथ जोड चुके हैं, पर दाग लगा सकती हैं, हमको कमजोर साबित कर सकती है, हमारा मज़ाक उड़वा सकती है, तो जाहिर है ऐसी किसी भी सार्वजनिक क्रियाकलापों में, व्यवहार में उतरते वक़्त हम असहज होंगे ही, उससे बचने की कोशिश करेंगे, उससे डरेंगे। और ऐसा तब अधिक होने की संभावना होती है जब हमें अपनी इस महान छवि के प्रति अधिक आत्मविश्वास भी ना हो।

ओह इस पर काफ़ी लंबा लिख गये हैं। बहुत इशारे हो चुके हैं, आप बात को शायद समझ पाएं।

परीक्षा में लिखते समय कुछ घबड़ाहट का अनुभव हुआ।….उस समय के बाद बार-बार यह महसूस हुआ कि घबड़ाहट और हाथ में कम्पन होता है।….जैसे मान लीजिए मैं बीस छात्रों की कक्षा में पढ़ाने जाता हूँ, तो मुझे घबड़ाहट क्यों होनी चाहिए, चाहे वह किसी तरह की हो।

किसी भी परीक्षा का मतलब हमारी, हमारे व्यक्तित्व की जांच ही होती है, और यह हम भली भांति जानते ही हैं। ऐसे ही कई लोगों के बीच प्रस्तुत होना भी अप्रत्यक्ष रूप से यही ही है। हमारे भय, हमारी दुश्चिंताएं हमारे अवचेतन का हिस्सा बन जाती हैं, और अनुकूल परिस्थितियों के पैदा होते ही जाने-अनजाने ही हमको प्रभावित करती ही हैं। इसलिए यह होता ही है, हो सकता ही है।

ऊपर काफ़ी कुछ कहा ही जा चुका है।

लड़कियों से भी कुछ हद तक बात करने में घबड़ाहट होती है।….जैसे मुझे कह दिया जाय किसी कक्षा में मैं पढ़ाने जाऊँ जिसमें लड़कियाँ (शायद बच्चियाँ नहीं) हों, तो शायद परेशानी होने लगे।…एक आदत रही है कि लड़कियों की आँखों में आँखें डालकर कम देखते हैं या बात करते हैं।

लड़कियों वाले मामले में भी ऊपर वाली बात तो रहती ही है, एक और मसला जुड जाता है, विपरीत लिंगी होने का। एक उम्र के बाद, परिवेश के साथ अंतर्क्रियाओं के दौरान, स्त्री और पुरुष की संकल्पनाएं आकार लेने लगती हैं। समझ में उनके बीच का अलगाव बढ़ता है, साथ ही उनकी एकता के रहस्यमयी साये भी कल्पना में गहराने लगते हैं। दोनों के बीच की अंतर्संबंधता कुछ समझ में आती है, कुछ घटाघोप बनाती है। फलस्वरूप विपरीत लिंगी के साथ झिझक और असहजता बढ़ने लगती है। और भी कई चीज़ें आती है जिन्हें आप भली भांति जानते ही हैं।

कई सारी मानसिक उलझनें, जो एकांतिक कल्पनालोक का हिस्सा होती हैं, एक दूसरे का सामना होते ही उभर आती हैं, चेतनता के केन्द्रीय ढ़ांचे में हावी हो जाती हैं और व्यक्ति असहज व्यवहार को अभिशप्त हो जाता है। लगभग सभी इस प्रक्रिया से गुजरते हैं, और अधिकतर इससे पार नहीं पा पाते। आजकल की शहरी संस्कृति में सहशिक्षा तथा और भी कई अन्य घटकों के कारण यह असहजता थोड़ी कम रहती है, या यूं भी कह सकते हैं इससे पार पाने और आगे बढ़ने के अधिक अवसर उपल्ब्ध होते जाते हैं।


इस बार इतना ही।
आलोचनात्मक संवादों और नई जिज्ञासाओं का स्वागत है ही।
शुक्रिया।

समय

अपेक्षाओं में द्वंद और अंतर्विरोध

हे मानवश्रेष्ठों,

काफ़ी समय पहले एक युवा मित्र मानवश्रेष्ठ से संवाद स्थापित हुआ था जो अभी भी बदस्तूर बना हुआ है। उनके साथ कई सारे विषयों पर लंबे संवाद हुए। अब यहां कुछ समय तक, उन्हीं के साथ हुए संवादों के कुछ अंश प्रस्तुत किए जा रहे है।

आप भी इन अंशों से कुछ गंभीर इशारे पा सकते हैं, अपनी सोच, अपने दिमाग़ के गहरे अनुकूलन में हलचल पैदा कर सकते हैं और अपनी समझ में कुछ जोड़-घटा सकते हैं। संवाद को बढ़ाने की प्रेरणा पा सकते हैं और एक दूसरे के जरिए, सीखने की प्रक्रिया से गुजर सकते हैं।


अपेक्षाओं में द्वंद और अंतर्विरोध

“पहले और अभी में, आपकी अपने आप से की जा रही अपेक्षाओं और ज्ञान तथा समझ की बढ़ोतरी का अंतर है। इसीलिए व्यवहार में सचेतनता बढ़ जाती है और आप कुछ ज़्यादा ही सतर्क हो उठते से लगते हैं, जिसके कि कारण इस तरह के लक्षण कभी-कभी हावी होते हैं।” यह बात कुछ स्पष्ट नहीं हुई।

हम अपनी आयु के हिसाब से परिवेश, समाज के साथ निरंतर अंतर्क्रिया ( interaction ) करते रहते हैं। हम एक व्यक्ति के नाते समाज और परिवार के विभिन्न व्यक्तियों के साथ अलग-अलग स्तरों के अंतर्संबध बनाते हैं। हम अपने लिए लोगों से कुछ अपेक्षाएं करते हैं, और साथ ही यह भी समझने लगते हैं कि इसी तरह अन्य लोग भी हमसे कुछ अपेक्षाएं करते होंगे। इन्हीं की पूर्ति के आधारों पर हम अपने मन में लोगों की छवि ( image ) बनाते हैं और उन्हें तौलते हैं। इसी तरह हम अपने आपको भी अपनी छवि और उसकी पूर्तियों के हिसाब से तौलते रहते हैं।

हम लोगों के मन में अपनी बनती जा रही छवि के अनुरूप ही, अपने प्रति लोगों की अपेक्षाओं की पूर्ति के हिसाब से अपने आप से कुछ निश्चित अपेक्षाएं पालते हैं कि हमें यह करना चाहिए, यह नहीं करना चाहिए, इसे तो हमें बेहतरी से करना ही चाहिए। हमारी बेहतर छवि को हम तोड़ना नहीं चाहते

जैसे-जैसे हमारी आयु बढ़ती है, समझ और हमारा ज्ञान बढ़ता जाता है, हमारे परिवेश के लोगों के साथ हमारे अंतर्संबंधों में भी परिवर्तन आते जाते हैं, उनकी अपेक्षाएं भी बढ़ती है। और इसीलिए हम भी अपने आप से अधिक अपेक्षाएं पालने लगते हैं। अपनी छवि और अपनी उपयोगिता, श्रेष्ठता बनाए रखने के लिए, हम इन अपेक्षाओं और उनकी पूर्ति के प्रति सचेत ( conscious ) होते जाते हैं। अपनी सक्रियता तथा अपने व्यवहार और उसके प्रभावों के प्रति सतर्क हो जाते हैं, उन पर अतिरिक्त ध्यान देने लगते हैं। यह अतिरिक्त सतर्कता, हमारी सक्रियता में थोडी अतिरिक्त असहजता पैदा करती है। जिससे कि वैसे लक्षण उत्पन्न होने की संभावनाएं बन जाती हैं।

यह बढ़ा हुआ ज्ञान और समझ का स्तर, हमारी कई मान्यताओं को भी बदल सकता है और यह भी हो सकता है कि लोगों की हमसे अपेक्षाओं और हमारे द्वारा ख़ुद से की जारही अपेक्षाओं में भी द्वंद और अंतर्विरोध पैदा हो सकते हैं। जाहिर है यह अंतर्विरोध भी, यह द्वंद भी हमारे व्यवहार को सतर्क और असहज बनाता है। जिससे भी कि वैसे लक्षण उत्पन्न होने की संभावनाएं बन जाती हैं।

शायद बात कुछ साफ़ हो पाई हो, हमारा उन पंक्तियों को लिखने का मंतव्य यही था।

“यह भी हो सकता है कि लोगों की हमसे अपेक्षाओं और हमारे द्वारा ख़ुद से की जारही अपेक्षाओं में भी द्वंद और अंतर्विरोध पैदा हो सकते हैं। जाहिर है यह अंतर्विरोध भी, यह द्वंद भी हमारे व्यवहार को सतर्क और असहज बनाता है।” इस पर कुछ अधिक कहना होगा।

लगता तो है कि कुछ अधिक कहने की आवश्यकता नहीं है, क्योंकि इसकी समझ आपने अपने आत्म-विश्लेषण में दिखाई है और कहा भी है कि “ये सब क्यों कहा, आप समझ रहे होंगे। इतनी लम्बी बात बस अपेक्षाओं के अन्तर्विरोध की है।”

यानि आप अपने परिवेश के लोगों द्वारा आपसे की जा रही अपेक्षाओं और आप जो अपने आप से अपेक्षाएं करते हैं, उनके बीच अंतर्विरोधों को समझ पा रहे हैं। ये ही आपके और आपके परिवार के बीच तनाव का कारण बने हुए हैं। आप अपनी अपेक्षाओं के प्रति दृढ़ रहना चाहते हैं, और परिवार अपनी अपेक्षाओं के प्रति। दोनों दृढ़ हैं, और सचेत तथा सतर्क भी, स्पष्ट है कि ऐसी परिस्थितियों में मामला सुलझने की राह निकलनी मुश्किल हो जाती है।

अभी आपने दर्शन नहीं पढ़ा है, शनैः शनैः पढ़ेंगे और समझेंगे ही, यह अत्यावश्यक है। द्वंदवाद सिखाता है कि हर चीज़ सदैव अपने आपसी द्वंद, अंतर्विरोधों में होती है। लेकिन सिर्फ़ द्वंद, अंतर्विरोध ही होता है, उनमें से किसी एक की ही जीत होने की संभावना हो तो निश्चित है कि वह चीज़ स्थिर नहीं रह सकती, अपना ढ़ांचा नहीं बनाए नहीं रख सकती, नष्ट होने को अभिशप्त हो जाती है। तो यदि चीज़ को अपनी उत्तरजीविता सुनिश्चित रखनी हो तो इन अंतर्विरोधों और द्वंदों में एक एकता, एक साम्य स्थापित करना होगा। साथ ही यह भी कि, इन द्वंदों का, अंतर्विरोधों का होना भी जरूरी है ताकि इनके हल करने की प्रक्रिया ही विकास की संभावना को रचती है।

यानि कि अंतर्विरोधों को हल करना और उनकी एकता स्थापित करना एक सही पद्धति होनी चाहिए। हल करने पर ध्यान दिया जाना चाहिए, इसका मतलब इनपर अड़े रहना, पलायन करना, जबरन नकारना, इनका हल नहीं हो सकता। आपकी, और समाज तथा देश की अभी की परिस्थितियों के मद्देनज़र यही अभीष्ट है कि आपको अपनी अपेक्षाओं के अंतर्विरोधों के भी सर्वमान्य हलों की दिशा में सक्रिय होना चाहिए।


इस बार इतना ही।
आलोचनात्मक संवादों और नई जिज्ञासाओं का स्वागत है ही।
शुक्रिया।

समय

संवाद और संबोधन में समस्या

हे मानवश्रेष्ठों,

काफ़ी समय पहले एक युवा मित्र मानवश्रेष्ठ से संवाद स्थापित हुआ था जो अभी भी बदस्तूर बना हुआ है। उनके साथ कई सारे विषयों पर लंबे संवाद हुए। अब यहां कुछ समय तक, उन्हीं के साथ हुए संवादों के कुछ अंश प्रस्तुत किए जा रहे हैं।

आप भी इन अंशों से कुछ गंभीर इशारे पा सकते हैं, अपनी सोच, अपने दिमाग़ के गहरे अनुकूलन में हलचल पैदा कर सकते हैं और अपनी समझ में कुछ जोड़-घटा सकते हैं। संवाद को बढ़ाने की प्रेरणा पा सकते हैं और एक दूसरे के जरिए, सीखने की प्रक्रिया से गुजर सकते हैं।


संवाद और संबोधन में समस्या

लोगों के सामने या भीड़ के सामने बोलने में थोड़ी घबड़ाहट, होंठ सूख जाते हैं कभी-कभी। पैरों में कम्पन और घबड़ाहट होती है(शायद थी)।….आखिर भय है तभी ऐसा है। क्यों है ऐसा? भयमुक्त होना भी एक लक्ष्य है। इस पर ध्यान दें। बताएँ ऐसा क्यों है और इसका समाधान क्या है?….मैं जितनी जल्दी प्रतिक्रिया लिखकर देता हूँ उतनी सामने नहीं देता। मैं बात करते समय तेजी से प्रतिक्रिया कम ही दे पाता हूँ। मुझे हमेशा जवाब देने के लिए थोड़ा समय चाहिए होता है।….हाँ तब जवाब देना बहुत आसान होता है जब सामनेवाला कोई ऐसी बात कहे जिसका जवाब मैं पहले से तय कर चुका हूँ यानि जानता रहता हूँ।….

होंठ सूखना, पैरों में कम्पन और घबड़ाहट ये सामान्य लक्षण हैं जो अक्सर ही व्यक्ति लोगों के सामने या भीड़ के सामने बोलने में महसूस करते हैं। खासकर शुरुआत में तो सभी ही करते हैं। दरअसल यह हमारे यहां कि सामान्य समस्या है चूंकि व्यक्ति की इस एकालापात्मक वाक् के विकास पर पर्याप्त ध्यान ही नहीं दिया जाता। यहां तक कि संवाद में भी कई लोग दिक्क़त महसूस करते हैं। संवाद की समस्या तो फिर भी उसकी व्यक्तिगत सक्रियता के चलते, उसकी आवश्यकताओं की तुष्टियों की जरूरतों के चलते काफ़ी कुछ ठीक हो जाती है, परंतु दूसरों व्यक्तियों को संबोधित करते हुए बोलना एक समस्या ही बना रहता है।

घरेलू परिवेश और विद्यालय का शुरुआती माहौल संवादमय नहीं है, इसलिए अक्सर जरूरी आत्मविश्वास पूरी तरह नहीं उभर पाता। कुछ ही निश्चित व्यक्तियों के सामने संवाद की प्रक्रिया सीमित हो जाती है। जब संवाद ही समुचित संभव नहीं है तो एकालाप यानि संबोधन आदि में, मंच आदि पर तो ऐसी हालत अवश्यंभावी है।

पर यह तो हो चुका, इसे सिर्फ़ समझने के लिए यहां रखा गया था, इसमें और भी कई घटक काम कर रहे होते हैं। खैर, अब बात आगे बढ़ने की है। इसलिए इसे अब के सापेक्ष और समझ लिया जाए।

एक वज़ह और है जिसके कारण इससे बाद में भी, यानि व्यक्तिगत परिपक्वता के बाद भी समस्या पैदा होती है। वह है विषयगत ज्ञान की कमी और भाषाई कमजोरी। परिचित मामलों में अपनी बात को ठीक तरह से भाषाई कसाव के साथ रखने में समस्या होती है, और अपने से अपरिचित मामलात सामने आते ही, विषयगत ज्ञान की कमी तथा भाषाई शव्दावली की कमी दोनों ही अखरने लगती हैं और इसी कारण संकोच व झिझक हमें चुप रहने की ओर प्रेरित करता है।

जिन विषयगत मामलों में हमारी दिलचस्पी भी होती है, थोड़ा बहुत सूचनाएं और उससे संबंधित ज्ञान भी हमने इकट्ठा किया होता है, वहां भी यदि समझ गहरी ना बन पाई हो तो हम तात्कालिक प्रतिक्रिया या संवाद करने में असहज होते हैं, हमारे दिमाग़ में कई अस्पष्ट विचार उमड़ घुमड रहे होते हैं, कई सारे विचार आ-जा रहे होते हैं। अब यदि मन में ही स्पष्ट वैचारिक स्थिरता नहीं हो तो, स्पष्ट है कि उनका संवाद में भाषाई निरूपण कैसे संभव हो सकता है। हम कुछ बोल नहीं पाते और बाद में अक्सर, जब फुर्सत में होते हैं और सोच-विचार को स्थिर कर पा रहे होते हैं, तब हमें बखूबी यह बूझ रहा होता है कि उस वक़्त यह कहा जा सकता था, उस वक़्त यह कहा जाना चाहिए था, आदि-आदि। पर इसमें चिंता की कोई बात नहीं होती, सभी इसी प्रक्रिया से गुजरते हैं, अपने विचारों को सापेक्षतः स्थिर करते हैं, और इसी तरह की कई स्थितियों से गुजर कर ही वैसी ही वैचारिक स्थिति उत्पन्न होने पर संवाद में अपनी सार्थक दखलअंदाजी दर्ज करने में सक्षम होते जाते हैं। अनुभव बढ़ता जाता है, अभ्यास होता जाता है और आत्मविश्वास तथा सटीकता बढ़ती जाती है।

यही बात आपने अपने शब्दों में कही है। यानि आप इस प्रक्रिया के उत्तरार्ध में है और जैसा कि आपने कहा है कि शीध्र ही आप इसमें अधिक सक्षम होते जाएंगे।

अब संबोधन वाली बात पर। ऊपर वाली बात यहां पर भी लागू होती है। यानि वैचारिक स्थिरता और भाषाई निरूपण की कमजोरी। और इसके साथ कई लोगों के सामने एकालाप करने यानि मंच की कमजोरी और जुड़कर इसे बहुगुणित कर देती है। और फलस्वरूप वे लक्षण उभरते हैं। मंच का फोबिया अक्सर व्यक्तियों पर हावी रहता है। हमारे परिवेश में ऐसे अवसर कम ही उपलब्ध होते हैं इसलिए इनका अभ्यस्त नहीं होना स्वाभाविक सा ही है। जब हम व्यक्तिगत रूप से संवाद करने में ही तकलीफ़ महसूस करते हों, वहां अकेले, बहुत से सारे लोगों के सामने बोलना, जो अपना सारा ध्यान आप पर ही केन्द्रित करके आप पर ही टकटकी लगाए बैठे हों तो उनकी अपेक्षाओं पर खरा नहीं उतरपाने यानि असफ़लता की संभावना की दिखती उपस्थिति पैर कंपकपा देती है, गला सुखा देती है, आत्मविश्वास को कमजोर कर देती है।

कई माहिर वक्ता भी अपने अनुभव बांटते वक़्त यह बताते हैं कि मंच पर खड़े होते ही एकबारगी वे भी इन सभी लक्षणों से गुजरते हैं, पर उनका अभ्यास उन्हें इनसे पार पाना सिखा चुका है। वे थोड़ी देर में सामान्य हो जाते हैं और धाराप्रवाह में आ जाते हैं। यानि अभ्यास, यानि इस प्रक्रिया का बार-बार किया जाना जरूरी होता है और यह तभी हो सकता है कि आप बिना परिणामों और प्रस्तुति की चिंता किए बगैर यह करते रहें। धीरे-धीरे इन लक्षणों पर नियंत्रण स्थापित होता जाएगा। और बिना प्रस्तुति की चिंता किये बगैर यह किया जाना थोड़ा अव्यावहारिक सी बात है, तो स्पष्ट है कि हमें प्रस्तुति को बेहतर बनाना होगा, ताकि शुरुआती आत्मविश्वास पैदा किया जा सके। इसके लिए हमें पहले छोटे-छोटे विषयगत एकालापों की तैयारी करनी होगी।

हम जब किसी विषय पर बोलना चाहते हैं, तो एक साथ कई सारे विचार, जिनका कि उस विषय के साथ प्रत्यक्ष या परोक्ष संबंध है, हमारे दिमाग़ में उमड़ने-घुमड़ने लगते हैं। अगर हमने पहले से जितना भी संभव हो सका है, अच्छी तरह सोच-विचार कर अपनी मान्यताओं और उस विषय पर अपनी समझ को सापेक्षतः निश्चित किया हुआ होता है तो इस अस्थिरता का असर कम हो जाता है। इसलिए, बोलने से पहले तैयारी आवश्यक है। यह तैयारी कि आप अपनी बात को किन आयामों तक सीमित रखना चाहता है, ऐसे मुख्य बिंदु क्या हैं जिन्हें आप अवश्य पहुंचाना चाहते हैं, उन्हें लिखकर अपने पास रखा जा सकता है, उन बिंदुओं पर अपने विचार और समझ को नियत कीजिए कि आपको कितना कहना है, इसको समझाने के लिए आप क्या उदाहरण और दृष्टांत देने वाले हैं या देंगे उन्हें भी संदर्भित कर ले और उनके मुख्य बिंदु भी लिख लें। बस अब आपको अपनी इसी रूप रेखा के आधार पर बोलना है, और बस बोलना है।

मंच पर शुरुआत के अवश्यंभावी फोबिया के लक्षणों को दूर करने के लिए श्रेष्ठ तरीका है कि पहले आप कुछ हल्की-फुल्की बाते करें, इसके लिए सामान्यतः वहां का तात्कालिक माहौल, श्रोताओं, ख़ुद और विषयगत संदर्भों पर भी कुछ चुटीली, व्यंग्यात्मक टिप्पणियां की जा सकती हैं जो माहौल और आपके श्रोताओं और आपको भी सहज और एकाकार होने में मदद करती हैं। और फिर पूरी गंभीरता से शुरू हो जाएं, धीरे-धीरे बात को आगे बढ़ाएं। लहज़ा, संवेग आपकी बात को अधिक प्रभावी बनाते हैं।

अगर आपसे पहले और भी वक्ता रहे हों, तो उनको ध्यान से सुना जाना चाहिए और कुछ मुख्य बिंदुओं को जिनपर सहमति दर्ज करनी हो ( इससे आपकी मिलती जुलती सामग्री को आप छोड सकते हैं, पहले वाले वक्ता का संदर्भ दे कर), और जिन पर आपको अपना प्रतिवाद दर्ज़ करना हो ( इस पर अपना अतिरिक्त प्रतिवाद रखकर अपनी सामग्री की कमी की भरपाई भी हो जाती है) , लिख लेना चाहिए। इनका अपने वक्तव्य में समावेश कीजिए।

यानि संबोधन के फोबिया से इससे लड़कर ही जीता जा सकता है, वैचारिक स्थिरता और भाषाई सुधार और विकास तथा अभ्यास के जरिए ही इसके लक्षणों के प्रभावों को कम किया जा सकता है।


इस बार इतना ही।
आलोचनात्मक संवादों और नई जिज्ञासाओं का स्वागत है ही।
शुक्रिया।

समय

उद्देश्य, लक्ष्य सर्वोपरि होता है

हे मानवश्रेष्ठों,

काफ़ी समय पहले एक युवा मित्र मानवश्रेष्ठ से संवाद स्थापित हुआ था जो अभी भी बदस्तूर बना हुआ है। उनके साथ कई सारे विषयों पर लंबे संवाद हुए। अब यहां कुछ समय तक, उन्हीं के साथ हुए संवादों के कुछ अंश प्रस्तुत करने की योजना है।

आप भी इन अंशों से कुछ गंभीर इशारे पा सकते हैं, अपनी सोच, अपने दिमाग़ के गहरे अनुकूलन में हलचल पैदा कर सकते हैं और अपनी समझ में कुछ जोड़-घटा सकते हैं। संवाद को बढ़ाने की प्रेरणा पा सकते हैं और एक दूसरे के जरिए, सीखने की प्रक्रिया से गुजर सकते हैं।



उद्देश्य, लक्ष्य सर्वोपरि होता है

मुझे कुछ रुखापन नहीं लगा।…..क्योंकि लेखों से दिखता है कि…..समीक्षक हैं और समीक्षक को इसकी चिन्ता नहीं होनी चाहिए कि समीक्षित किताब या आदमी क्या प्रतिक्रिया देंगे…..एक बात चलते-चलते कि लोगों के दिमाग तक अपनी बात और उनको साथ में लेना सीखना होगा, लेकिन कैसे? चापलूसी से, नहीं, ठीक नहीं है। यह तो राजनीति के नेताओं की तरकीब है। लोग स्वीकारते नहीं हैं क्योंकि सब का अहं प्रबल हो जाता है।

आपके नाम, पारिवारिक पृष्ठभूमि और उन मानवश्रेष्ठ के जरिए आपसे किये गए संवाद पर आपकी तात्कालिक प्रतिक्रिया जानने को मिली। आपका नाम जानने के बाद यह संभव हो गया कि अंतर्जाल के जरिए आपकी और भी कार्यवाहियों से परिचित हुआ जा सके। उनसे भी थोड़ा बहुत गुजरना हुआ। आपने कह ही दिया है इसलिए निश्चिंत रहा जा सकता है कि आप रूखेपन और प्रत्यक्षता को समझ सकते हैं, और इसे हमारी बेरूखी और ह्रदयहीनता नहीं समझेंगे। कि आप चीज़ों को समझने की प्रक्रियाओं में हैं। अतएव आपसे कुछ कठोर भी कहा जा सकता है, आप उसे अन्यथा नहीं लेंगे।

कुछ मनुष्य तुरंत प्रतिक्रियात्मक होते हैं, उतावले से। उनका दिमाग़ ऐसे अनुकूलन का अभ्यस्त होता है, जो तुरंत जवाबी प्रतिक्रिया देता है, और उसे अपनी तात्कालिकता के साथ तुरंत व्यक्त कर देता है। यह कोई ग़लत बात नहीं है, पर इससे यह परिलक्षित होता है कि उसमें धेर्य की कमी है, उसमें अच्छे श्रोता या पाठक होने की प्रवृत्ति नहीं है। वे चीज़ों के साथ अंतर्क्रिया करके उन्हें आत्मसात्कृत करने की बज़ाए उनसे सीधी लड़ाई छेड़ने को, सचेत और सतर्क हो उठते हैं।

ये ज्ञान को, चीज़ों को समझने की प्रक्रिया और पद्धति के लिए ज़्यादा अच्छे लक्षण नहीं हैं। तात्कालिक तुरंत प्रतिक्रियात्मकता, अंतर्विरोधों के साथ, उनसे सकारात्मक द्वंद और संघर्ष करके अपने को विकसित करने का ज़रिया बनाने की जगह, नकारात्मक प्रतिरोध यानि कि विरोधी से, मान्यताओं के विपरीत से जाते लगते विचारों के साथ एक सुरक्षात्मक, सतर्क व्यवहार के लिए प्रेरित करती है। और मनुष्य इस प्रक्रिया में उलझता जाता है, अपने को और रूढ़ बनाता जाता है।

हालांकि आप इसकी इन शुरुआती प्रवृत्तियों से आगे निकल चुके हैं, और बातों को समझने और सही से लगते को स्वीकारने की दिशा में काफ़ी आगे बढ़ चुके हैं, पर इसे और विकसित करने की आवश्यकता है।

आपको आपकी कई उलझनों और बातों पर हम विस्तार से, हालांकि क्लिष्ट सांद्रता और कई गंभीर इशारों के साथ लिख ही चुके हैं। आपको भी उनसे उसी गंभीरता के साथ गुजरना चाहिए, गुजरते रहना चाहिए। कई सूत्र वाक्य वहां कहे गये ही थे। धेर्य के साथ समझने की कोशिश की जानी चाहिए, अपने यथार्थ को समझते और उसके साथ गुनते हुए। किन्हीं बातों पर यदि आवश्यकता महसूस करते हैं तो और भी खुलकर संवाद किया जा सकता है

थोड़ा सा प्रतिवाद, आपकी वाज़िब बात को ही आगे बढ़ाते हुए :

‘समीक्षक को इसकी चिन्ता नहीं होनी चाहिए कि समीक्षित किताब या आदमी क्या प्रतिक्रिया देंगे’

उद्देश्य, लक्ष्य सर्वोपरि होता है, किसी भी क्रिया के लिए। यानि प्रदत्त क्षण में, या तात्कालिक संदर्भों में, आपके लक्ष्य क्या हैं, एकाधिक लक्ष्य होने की अवस्थाओं में प्राथमिकता पर क्या है, यह हमारी कार्यवाहियों को तय करते हैं, या यह कहें कि करने चाहिएं। समीक्षा में या आलोचना में भी ऐसा ही होना चाहिए।

जब यह लक्ष्य प्राथमिकता पर है कि सार्वजनिक रूप से विचार का खंड़न या मंड़न, दत्त परिस्थितियों में ज़्यादा आवश्यक हो गया है तो आपका कहा शत-प्रतिशत सही है। अब संभावित प्रतिक्रियाओं को ध्यान में रखना आवश्यक नहीं है।

पर यदि लक्ष्य आलोचना के साथ-साथ, समीक्षित विचार या उससे संबंधित व्यक्ति में, नकारात्मकता को उभारे बिना, उसे अपनी प्रस्तुति पर पुनर्विचार के लिए प्रस्तुत करवाना हो, यानि उसके विकास की संभावनाओं को ज़िंदा रखना हो, तो स्वाभाविकतः समीक्षा को, उसकी भाषा को, आवश्यक रूप से संयत और संवाद के लिए प्रेरित करने वाली होना चाहिए।

और यदि लक्ष्य वैयक्तिक रूप से उसकी व्यक्तिगत चेतना में, समझ में सचमुच ही सकारात्मक हस्तक्षेप करना हो तो फिर हमारी क्रियाविधियां, भाषा, संवाद का स्तर, उसके ज्ञान और समझ के स्तर के अनुरूप ही रखना होगा, वरना बीच का अंतराल हमारे लक्ष्य को असंभव बना देगा। एक बार संवाद सेतु खत्म, तो हस्तक्षेप की सभी संभावनाएं ख़त्म।

और यह भी होता है कि, हमारा लक्ष्य इनमें से कु्छ भी ना हो, हम सिर्फ़ अपने को केन्द्र में रखकर, अपने हितों और संभावनाओं के पल्लवन के लाभार्थ यह कार्य कर रहे हों, अपने आपको स्थापित करने का लक्ष्य ही सिर्फ़ हमारे दिमाग़ में हो, तो फिर हम किसी भी तरह से, तर्क-कुतर्क करने को स्वतंत्र होते हैं। आप देख ही रहे होंगे, आजकल यही ज़्यादा हो रहा है।

आपकी एक और बात ‘लोगों के दिमाग तक अपनी बात और उनको साथ में लेना सीखना होगा, लेकिन कैसे?’ पर भी उपरोक्त में ही कुछ इशारे हो गये हैं।


इस बार इतना ही।
आलोचनात्मक संवादों और नई जिज्ञासाओं का स्वागत है ही।
शुक्रिया।

समय