प्रेम के मानसिक अंतर्द्वंद और ज़मीनी सच्चाइयां

हे मानव श्रेष्ठों,
समय फिर हाज़िर है।
सोचा था प्रेम की चर्चा खत्म करके कुछ नया शुरू करेंगे, परंतु प्रतिक्रियाओं और मेल पर प्राप्त अन्य जिज्ञासाओं ने प्रेरित किया कि अभी प्रेम के मानसिक अंतर्द्वंदों और वास्तविक निगमनों पर और पन्नें काले किये जा सकते हैं। चलिए, बात शुरू की जाए..और यक़ीन मानिए अगर आप अपने पूर्वाग्रहों को थोड़ी देर ताक में रख देंगे तो इस में ज़्यादा मज़ा आएगा।

००००००००००००००००००००००००००००००

मनुष्य अपनी ज़िंदगी समाज के बीचोंबीच शुरू करता है और स्नेह, वात्सल्य एवं दुलार उसे एक सुरक्षाबोध का अहसास कराते रहते हैं। उसकी दुनिया समाज के इस परिचित परिवेश में सिमटी हुई होती है। थोडी उम्र बढ़ती है, लिंगभेदों की पहचान आकार लेती है और इनके प्रति अनुत्तरित जिज्ञासाएं पनपने लगती हैं। कुछ और उम्र गुजरती है, अब विपरीत लिंगियों के बीच इक अनजानी सी शर्म का अहसास फलतः बढ़ती दूरी, और अनुत्तरित जिज्ञासाओं का अंतर्द्वंद उनके बीच स्वाभाविक तौर पर एक आकर्षण पैदा करता है। यह आकर्षण विपरीत लिंगियों के बीच दिलचस्पी का वाइस बनता है, और शर्म एवं झिझक का अहसास उनके बीच असहजता पैदा करता है। यह असहजता, इसके पहले के आपसी व्यवहार के संदर्भ में होती है और वे अपने आपसी संबंधों में कुछ अनोखापन महसूस करने लगते हैं। जाहिर है यह सब निकट के सामाजिक परिवेश के विपरीत लिंगियों के बीच ही घट रहा होता है। मनुष्य का परिवेश उन्हें निकट के रिश्तों की अनुकूलित समझ दे देता है अतएव यह असहजता इनसे थोडा़ अलग परिवेश के विपरीत लिंगियों के बीच पैदा होती है, और जहां ये थोडा़ अलग संभावनाएं आसपास नहीं होती, तो आप सभी जानते हैं कि शुरूआती तौर पर थोडा़ दूर के रिश्तों के विपरीत लिंगियों के बीच ही इस असहजता और आकर्षण को घटता हुआ देखा जा सकता है।

इन अस्पष्ट सी लुंज-पुंज भावनाओं के बीच आगमन होता है, एक नये सिरे से विकसित हो रही समझ का जो उनके बडों के आपसी व्यवहार को नये परिप्रेक्ष्यों में तौलने लगती है, उनके बीच के संबंधों में कुछ नया सूंघने लगती है। उपलब्ध साहित्य, फिल्मों और टीवी में चल रही कहानियों में भी नये अर्थ मिलने लगते हैं, जिन्हें अपनी जिज्ञासाओं के बरअक्स रखकर वे अपनी इन कोमल भावनाओं को नये शब्द, नयी परिभाषाएं, नये आयाम देने लगते हैं।

और फिर शारीरिक बदलावों के साथ किशोरावस्था की शुरूआत होती है, अब तक वे इन कोमल भावनाओं को ‘प्रेम’,‘प्यार’ के शब्द के रूप में एक नया अर्थ दे चुके होते हैं, जो कि इन शब्दों के बाल्यावस्था वाले अर्थों से अलग होता है। यह नया अर्थ यौन-प्रेम का होता है, और उपलब्ध परिवेश से अंतर्क्रियाओं के स्तर के अनुसार वे इस प्रेम की नई-नई परिभाषाएं, व्याख्याएं गढ़ चुके होते हैं।

वे इस प्रेम के भावनात्मक आवेग के जरिए जीवन में पहली बार अपने अस्तित्व का, समाज से विलगित रूप में अहसास करते हैं और समाज के सापेक्ष अपनी एक अलग पहचान, अपनी एक व्यक्तिगतता को महसूस करते हैं। शायद इसीलिए किसी मानव श्रेष्ठ ने कहा है कि प्रेम, मनुष्य का समाज के विरूद्ध पहला विद्रोह है। जाहिर है ये बडी ही विशिष्ट अवस्था है, और परिवेश द्वारा इस अवस्था से किस तरह निपटा जाता है यह उन किशोरों की कई भावी प्रवृतियों को निर्धारित करने वाला होता है।

अभी भी अधिकतर रूप में प्रेम की भावना के परिवेशजनित अर्थों में विपरीत लिंगी के प्रति एक आत्मिक लगाव, एक बिलाशर्त समर्पण, और एक गहन जिम्मेदारी और त्याग का भाव निहित रहता है, परंतु कहीं-कहीं जहां परिवेश में पश्चिमी प्रभाव ज्यादा घुलमिल रहा है प्रेम की भावना का अर्थ संकुचित होकर यौनिक आनंद तक सिमट रहा है। खैर इस दूसरे अतिरेक को छोड़ते हैं और पहले वाले अतिरेक पर ही लौटते हैं।

सामान्य भारतीय परिवेश में यौन-प्रेम वर्जित है, क्योंकि यह अपनी उत्पत्ति में किसी भी भाषिक, जातीय, आर्थिक और धार्मिक बंधनों को आड़े नहीं आने देता है जो कि अभी किशोर मन में अपनी जडे़ नहीं जमा पाए होते हैं और कमजो़र होते हैं और साथ ही इस भावना को सामान्यतयाः गलत नज़र से यानि कि व्यस्कों के यौन-अनुभवों की दृष्टी से भी देखा जाता है। जाहिरा तौर पर ये अव्यक्त, चोरी-छिपे की भावनाएं उनके अपरिपक्व मन में उथल-पुथल मचाए रहती हैं और इन वर्जनाओं और यौनिक दृष्टीकोणों के सापेक्ष किशोर मन इनके आत्मिक रूपों को अतिश्योक्तियां देता है, जिनका कि आधार उसे साहित्य और हिंदी सिनेमा से ज्यादा मिलता है।

इस दौर में आकर एक चीज़ और हो सकती है और वो यह कि सहज उपलब्ध विपरीत लिंगी के बजाए किशोर मन, किसी भी पसंद के व्यक्ति को सचेत रूप से अपने प्रेम का लक्षित बना लेता है और उसके मन में भी अपने लिए वैसी ही भावनाएं पैदा कर पाना अपनी तात्कालिक ज़िंदगी का लक्ष्य बना लेता है।

अक्सर सभी मनुष्य प्रेम की इन भावनाओं से दो-चार होते हैं, कहीं ये भावनाएं इकतरफ़ा रूप में दबी रह जाती हैं, कहीं ये अभिव्यक्त होकर थोड़ा सा दबा छिपा प्रेमाचार कर पाती हैं और भुला ली जाती हैं, कहीं ये पुरज़ोर रूप में सामने आती हैं और गंभीरता से अपनी परिणति की लडाई लडती हैं और सामाजिक अवसरवाद या सामाजिक मूल्यों के आगे दम तोड देती हैं और कहीं ये खुला विद्रोह कर अपने अंज़ाम तक पहुंच भी पाती हैं। अक्सर ये देखा जाता है, विरले ही रूप में परिणति तक पहुंचे प्रेम विवाह भी असफल रहते हैं। यह वहीं होता है जहां इन प्रेम-विवाहों के मूल में प्रेम का आत्मिक, प्रबल भावावेगों और मानसिक घटाघोपों वाला रूप होता है और ज़मीनी हक़ीकतों से, ज़िंदगी की ठोस भौतिक परिस्थितियों से अलगाव होता है। जाहिर है, प्रबल आत्मिक भावावेगों का हवाई बुलबुला ठोस ज़मीन पर जल्दी ही फूट जाता है।

अब ये आसानी से समझा जा सकता हैं कि प्रेम की विभिन्न परिभाषाओं और व्याख्याओं के मूल में क्या निहित होता है। जब प्रेम में पगा मन अपनी भावनाओं के वश में अपने प्रेमी या प्रेम के लक्षित के इंतज़ार में ही आनंद पाने को विवश होता है, तो उसे लगता है कि इंतज़ार ही प्रेम है। जब प्रेम का लक्षित सबसे महत्वपूर्ण हो उठता है, जागते-सोते उसके नाम की माला जपना जब सबसे आनंददायक मानसिक शगल हो उठता है, तो उसे लगता है कि प्रेम भगवान है, पूजा है। जब प्रेम में डूबा हुआ मन कोई असामान्य हरकत कर बैठता है, तो शायद उसे लगता है कि प्रेम एक पागलपन है, दीवानगी है। जब इकतरफ़ा प्रेम असफलता या इंकार की संभावना से डरा होता है तो उसे ये सोचना अच्छा लगता है कि प्रेम एक त्याग है और बदले में प्रेम पाने की आंकाक्षा एक दूसरे पर कब्ज़ा करना है जो कि प्रेम का लक्ष्य नहीं है।

अधिकतर मनुष्य, किशोरावस्था की इन्हीं अनगढ़ एकांतिक भावनाओं को, दमित आकांक्षाओं को मन में समेटे हुए ही अपनी आगे की ज़िंदगी को परवान चढा़ते हैं। ज़िंदगी की तल्ख़ सच्चाइयों के आभामंड़ल के बीच, इन कोमल भावनाओं की स्मृति और कल्पनाएं उसे एक गहरा मानसिक सुकून देती हैं। किशोरावस्था के प्रेम की ये स्मृतियां कभी उसे गुड जैसा मीठा अहसास देती हैं, कभी एक भुला नहीं सकने वाली तल्ख़ी, कभी वे एक बचकाना दीवानापन लगती हैं और कभी भावों का जलेबी सा उलझा हुआ पर मीठा रसीला आनंद। मनुष्य ताउम्र अपनी कठोर ज़िंदगी से मिले फ़ुर्सत के क्षणों में इन मीठे और कोमल अहसासों की जुगाली करता रहता है।

मनुष्य अपनी बाद की ज़िंदगी में यौन-प्रेम की भौतिक तुष्टि पा चुका होता है, इसीलिए जाहिरा तौर पर अपने मानसिक सुकून के लिए वह अपने शुरूआती यौन-प्रेम की स्मृतियों की, जिनमें अक्सर यौनिक दृष्टिकोण पृष्ठभूमि में होता है, पवित्रता बनाए रखने के लिए उन्हें और भी अधिक आत्मिक परिभाषाओं और व्याख्याओं के नये आयामों तक विस्तार देता रहता है।

००००००००००००००००००००००००००००००

तो हे मानव श्रेष्ठों !!
मुझे लगता है अब प्रेम पर ये काफ़ी सामग्री हो गयी है, जिसमें से आप प्रेम की भावनाओं को समझने के कई इशारे पा सकते हैं, और इस पर अपना अनुसंधान जारी रख सकते हैं।
निरपेक्ष विश्लेषण ही आपको सत्य की राह पर पहुंचा सकता है।

समय

Advertisements

15 टिप्पणियाँ (+add yours?)

  1. अनिल कान्त :
    मई 27, 2009 @ 15:45:06

    achchha lekh hai

    प्रतिक्रिया

  2. ajay kumar jha
    मई 27, 2009 @ 16:11:07

    bahut hee umdaa lekh hai bhai…. aapkee shailee aur rawaangee ne baandhe rakha….yun hee likhte rahein……

    प्रतिक्रिया

  3. Udan Tashtari
    मई 27, 2009 @ 16:47:18

    प्रेम के मूल को समझाते हुए एक बेहतरीन विश्लेषणात्मक आलेख. आनन्द आया पढ़कर. आभार इन सदविचारों का.

    प्रतिक्रिया

  4. ''ANYONAASTI '' {अन्योनास्ति}
    मई 27, 2009 @ 20:18:20

    समय महोदय आप चूक तो कर ही बैठे हैं ,भाई अब अपनी करम-कृषि को काटना तो पड़ेगा ही ,ऐसे कैसे भागे जा रहे हैं ‘मा पलायनम् : मा पलायनम् | शायद ‘ समय ‘ ने इससे बड़ा बहुरुपिया न देखा होगा ? इसके रूप तो देखिये ममता ,वात्सल्य ,स्नेह ,प्रेम , वासना , भक्ति ,समर्पण कहाँ तक गिनाया जाये | मेरी समझ में यह संभवता अकेली विधा है जो कंही से शुरू कर ..कहीं से होकर कहीं और यांनि समाधी तक भी पहुंचा सकती है | लिखिये लिखिए लिखिए क्योंकि समय द्वारा समय – पत्र पर वक्त की स्याही से लिख का समय – पात्र में सुरक्षित रख देने पर , वही भविष्य काल के किसी वर्तमान समय द्वारा गत समय के प्रेमी के रूप में सामने लाया जाता है तो वही इतिहास कहलाता है !

    प्रतिक्रिया

  5. दिनेशराय द्विवेदी Dineshrai Dwivedi
    मई 28, 2009 @ 19:55:28

    समय महाराज की जय!आप अब तक कहाँ थे महाराज। आप तो प्रेम पर लिखने वाले अब तक के तमाम लेखकों, प्रवचनकर्ताओं और मनीषियों से आगे निकल गए। इस से अधिक सुंदर, कल्याणकारी और यथार्थ व्याख्या अभी तक तो पढ़ी नहीं गई है। आप को प्रणाम!

    प्रतिक्रिया

  6. shashi
    मई 29, 2009 @ 07:25:53

    aapne prem par jo likha hai us par kuchh bhi kahna suraj ko diya dikhane jaisa hai aapka vishlashan wakai tarif-e-kabil hai

    प्रतिक्रिया

  7. हर्षवर्धन
    जून 02, 2009 @ 15:34:29

    बड़े ‘प्रेम’ से लिख मारा है

    प्रतिक्रिया

  8. woyaadein
    जून 03, 2009 @ 06:41:03

    क्या गज़ब का लेख लिखा है आपने प्रेम का विश्लेषण करते हुए…..मैं तो पढ़कर आनंद की चरम सीमा पर पहुँच गया. यूं ही लिखते रहिये….मेरी शुभकामनाएं आपके साथ है….साभारहमसफ़र यादों का…….

    प्रतिक्रिया

  9. महामंत्री - तस्लीम
    जून 05, 2009 @ 13:19:45

    प्रेम के विभिन्न स्वरूपों का सटीक चित्रण किया है आपने। बधाई।-Zakir Ali ‘Rajnish’ { Secretary-TSALIIM & SBAI }

    प्रतिक्रिया

  10. Arvind Mishra
    सितम्बर 02, 2009 @ 12:21:43

    बहुत बढियां आलेख !

    प्रतिक्रिया

  11. shikha varshney
    सितम्बर 23, 2009 @ 09:54:18

    kafi achcha lekh hai.gyaan bardhan ke liye shukriya

    प्रतिक्रिया

  12. saurabh
    नवम्बर 03, 2009 @ 19:48:45

    achcha hai….. lekin agar ek scientist ki nazar se dekhte hain to ek mandir bhi sirf eet aur cement ka hota hai lekin puja karne wale ke liye vo jagah eet ,cement se badkar hoti hai prem ko shabd dena galat use to jee kar hi jana ja sakta hai … thank u

    प्रतिक्रिया

  13. चंदन कुमार मिश्र
    जुलाई 24, 2011 @ 18:36:26

    इस बार पता चला बहुत कुछ। द्विवेदी जी की बात से सहमति। कुछ सवाल रहे लेकिन मन में। लेकिन हिन्दी सिनेमा और साहित्य की बात सच सी लगी। शानदार! बेहद महत्वपूर्ण!

    प्रतिक्रिया

  14. चंदन कुमार मिश्र
    जुलाई 24, 2011 @ 18:50:11

    लेकिन अगर सभी में विद्रोह कभी पैदा होता है, खासकर भारत में तब हमारा देश ऐसा क्यों है?

    प्रतिक्रिया

  15. चंदन कुमार मिश्र
    नवम्बर 09, 2011 @ 13:10:08

    पिछले भाग में अमर जी(अब दिवंगत)की बात यानी दूसरी टिप्पणी की समीक्षा अन्त में अच्छे से दिखती है…अब हुआ यह कि यहाँ अमर जी आए ही नहीं या आए तो कुछ बोले नहीं…मेरी दूसरी टिप्पणी में जो सवाल था, उस पर विचार रखे नहीं गए हैं…'परिवेश द्वारा इस अवस्था से किस तरह निपटा जाता है यह उन किशोरों की कई भावी प्रवृतियों को निर्धारित करने वाला होता है।'…भावी प्रवृत्तियों पर विस्तार से प्रकाश डालते तो अच्छा लगता…ताकि समझने का मौका मिलता कि क्या-क्या और कौन-सी प्रवृत्तियाँ किस ओर ले आती हैं व्यक्ति को…'प्रेम, मनुष्य का समाज के विरूद्ध पहला विद्रोह है।'…इसका सन्दर्भ और इस वाक्य के निर्माता का नाम जानने की इच्छा है… एक जिज्ञासा और है कि व्यक्ति 'क' अगर 'ख' से प्रेम करता है तो 'ख' 'क' से कैसे प्रेम करने लगता है…प्रेम मतलब वही प्राथमिक अर्थ में…

    प्रतिक्रिया

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: