प्रेम के मानसिक अंतर्द्वंद और ज़मीनी सच्चाइयां

हे मानव श्रेष्ठों,
समय फिर हाज़िर है।
सोचा था प्रेम की चर्चा खत्म करके कुछ नया शुरू करेंगे, परंतु प्रतिक्रियाओं और मेल पर प्राप्त अन्य जिज्ञासाओं ने प्रेरित किया कि अभी प्रेम के मानसिक अंतर्द्वंदों और वास्तविक निगमनों पर और पन्नें काले किये जा सकते हैं। चलिए, बात शुरू की जाए..और यक़ीन मानिए अगर आप अपने पूर्वाग्रहों को थोड़ी देर ताक में रख देंगे तो इस में ज़्यादा मज़ा आएगा।

००००००००००००००००००००००००००००००

मनुष्य अपनी ज़िंदगी समाज के बीचोंबीच शुरू करता है और स्नेह, वात्सल्य एवं दुलार उसे एक सुरक्षाबोध का अहसास कराते रहते हैं। उसकी दुनिया समाज के इस परिचित परिवेश में सिमटी हुई होती है। थोडी उम्र बढ़ती है, लिंगभेदों की पहचान आकार लेती है और इनके प्रति अनुत्तरित जिज्ञासाएं पनपने लगती हैं। कुछ और उम्र गुजरती है, अब विपरीत लिंगियों के बीच इक अनजानी सी शर्म का अहसास फलतः बढ़ती दूरी, और अनुत्तरित जिज्ञासाओं का अंतर्द्वंद उनके बीच स्वाभाविक तौर पर एक आकर्षण पैदा करता है। यह आकर्षण विपरीत लिंगियों के बीच दिलचस्पी का वाइस बनता है, और शर्म एवं झिझक का अहसास उनके बीच असहजता पैदा करता है। यह असहजता, इसके पहले के आपसी व्यवहार के संदर्भ में होती है और वे अपने आपसी संबंधों में कुछ अनोखापन महसूस करने लगते हैं। जाहिर है यह सब निकट के सामाजिक परिवेश के विपरीत लिंगियों के बीच ही घट रहा होता है। मनुष्य का परिवेश उन्हें निकट के रिश्तों की अनुकूलित समझ दे देता है अतएव यह असहजता इनसे थोडा़ अलग परिवेश के विपरीत लिंगियों के बीच पैदा होती है, और जहां ये थोडा़ अलग संभावनाएं आसपास नहीं होती, तो आप सभी जानते हैं कि शुरूआती तौर पर थोडा़ दूर के रिश्तों के विपरीत लिंगियों के बीच ही इस असहजता और आकर्षण को घटता हुआ देखा जा सकता है।

इन अस्पष्ट सी लुंज-पुंज भावनाओं के बीच आगमन होता है, एक नये सिरे से विकसित हो रही समझ का जो उनके बडों के आपसी व्यवहार को नये परिप्रेक्ष्यों में तौलने लगती है, उनके बीच के संबंधों में कुछ नया सूंघने लगती है। उपलब्ध साहित्य, फिल्मों और टीवी में चल रही कहानियों में भी नये अर्थ मिलने लगते हैं, जिन्हें अपनी जिज्ञासाओं के बरअक्स रखकर वे अपनी इन कोमल भावनाओं को नये शब्द, नयी परिभाषाएं, नये आयाम देने लगते हैं।

और फिर शारीरिक बदलावों के साथ किशोरावस्था की शुरूआत होती है, अब तक वे इन कोमल भावनाओं को ‘प्रेम’,‘प्यार’ के शब्द के रूप में एक नया अर्थ दे चुके होते हैं, जो कि इन शब्दों के बाल्यावस्था वाले अर्थों से अलग होता है। यह नया अर्थ यौन-प्रेम का होता है, और उपलब्ध परिवेश से अंतर्क्रियाओं के स्तर के अनुसार वे इस प्रेम की नई-नई परिभाषाएं, व्याख्याएं गढ़ चुके होते हैं।

वे इस प्रेम के भावनात्मक आवेग के जरिए जीवन में पहली बार अपने अस्तित्व का, समाज से विलगित रूप में अहसास करते हैं और समाज के सापेक्ष अपनी एक अलग पहचान, अपनी एक व्यक्तिगतता को महसूस करते हैं। शायद इसीलिए किसी मानव श्रेष्ठ ने कहा है कि प्रेम, मनुष्य का समाज के विरूद्ध पहला विद्रोह है। जाहिर है ये बडी ही विशिष्ट अवस्था है, और परिवेश द्वारा इस अवस्था से किस तरह निपटा जाता है यह उन किशोरों की कई भावी प्रवृतियों को निर्धारित करने वाला होता है।

अभी भी अधिकतर रूप में प्रेम की भावना के परिवेशजनित अर्थों में विपरीत लिंगी के प्रति एक आत्मिक लगाव, एक बिलाशर्त समर्पण, और एक गहन जिम्मेदारी और त्याग का भाव निहित रहता है, परंतु कहीं-कहीं जहां परिवेश में पश्चिमी प्रभाव ज्यादा घुलमिल रहा है प्रेम की भावना का अर्थ संकुचित होकर यौनिक आनंद तक सिमट रहा है। खैर इस दूसरे अतिरेक को छोड़ते हैं और पहले वाले अतिरेक पर ही लौटते हैं।

सामान्य भारतीय परिवेश में यौन-प्रेम वर्जित है, क्योंकि यह अपनी उत्पत्ति में किसी भी भाषिक, जातीय, आर्थिक और धार्मिक बंधनों को आड़े नहीं आने देता है जो कि अभी किशोर मन में अपनी जडे़ नहीं जमा पाए होते हैं और कमजो़र होते हैं और साथ ही इस भावना को सामान्यतयाः गलत नज़र से यानि कि व्यस्कों के यौन-अनुभवों की दृष्टी से भी देखा जाता है। जाहिरा तौर पर ये अव्यक्त, चोरी-छिपे की भावनाएं उनके अपरिपक्व मन में उथल-पुथल मचाए रहती हैं और इन वर्जनाओं और यौनिक दृष्टीकोणों के सापेक्ष किशोर मन इनके आत्मिक रूपों को अतिश्योक्तियां देता है, जिनका कि आधार उसे साहित्य और हिंदी सिनेमा से ज्यादा मिलता है।

इस दौर में आकर एक चीज़ और हो सकती है और वो यह कि सहज उपलब्ध विपरीत लिंगी के बजाए किशोर मन, किसी भी पसंद के व्यक्ति को सचेत रूप से अपने प्रेम का लक्षित बना लेता है और उसके मन में भी अपने लिए वैसी ही भावनाएं पैदा कर पाना अपनी तात्कालिक ज़िंदगी का लक्ष्य बना लेता है।

अक्सर सभी मनुष्य प्रेम की इन भावनाओं से दो-चार होते हैं, कहीं ये भावनाएं इकतरफ़ा रूप में दबी रह जाती हैं, कहीं ये अभिव्यक्त होकर थोड़ा सा दबा छिपा प्रेमाचार कर पाती हैं और भुला ली जाती हैं, कहीं ये पुरज़ोर रूप में सामने आती हैं और गंभीरता से अपनी परिणति की लडाई लडती हैं और सामाजिक अवसरवाद या सामाजिक मूल्यों के आगे दम तोड देती हैं और कहीं ये खुला विद्रोह कर अपने अंज़ाम तक पहुंच भी पाती हैं। अक्सर ये देखा जाता है, विरले ही रूप में परिणति तक पहुंचे प्रेम विवाह भी असफल रहते हैं। यह वहीं होता है जहां इन प्रेम-विवाहों के मूल में प्रेम का आत्मिक, प्रबल भावावेगों और मानसिक घटाघोपों वाला रूप होता है और ज़मीनी हक़ीकतों से, ज़िंदगी की ठोस भौतिक परिस्थितियों से अलगाव होता है। जाहिर है, प्रबल आत्मिक भावावेगों का हवाई बुलबुला ठोस ज़मीन पर जल्दी ही फूट जाता है।

अब ये आसानी से समझा जा सकता हैं कि प्रेम की विभिन्न परिभाषाओं और व्याख्याओं के मूल में क्या निहित होता है। जब प्रेम में पगा मन अपनी भावनाओं के वश में अपने प्रेमी या प्रेम के लक्षित के इंतज़ार में ही आनंद पाने को विवश होता है, तो उसे लगता है कि इंतज़ार ही प्रेम है। जब प्रेम का लक्षित सबसे महत्वपूर्ण हो उठता है, जागते-सोते उसके नाम की माला जपना जब सबसे आनंददायक मानसिक शगल हो उठता है, तो उसे लगता है कि प्रेम भगवान है, पूजा है। जब प्रेम में डूबा हुआ मन कोई असामान्य हरकत कर बैठता है, तो शायद उसे लगता है कि प्रेम एक पागलपन है, दीवानगी है। जब इकतरफ़ा प्रेम असफलता या इंकार की संभावना से डरा होता है तो उसे ये सोचना अच्छा लगता है कि प्रेम एक त्याग है और बदले में प्रेम पाने की आंकाक्षा एक दूसरे पर कब्ज़ा करना है जो कि प्रेम का लक्ष्य नहीं है।

अधिकतर मनुष्य, किशोरावस्था की इन्हीं अनगढ़ एकांतिक भावनाओं को, दमित आकांक्षाओं को मन में समेटे हुए ही अपनी आगे की ज़िंदगी को परवान चढा़ते हैं। ज़िंदगी की तल्ख़ सच्चाइयों के आभामंड़ल के बीच, इन कोमल भावनाओं की स्मृति और कल्पनाएं उसे एक गहरा मानसिक सुकून देती हैं। किशोरावस्था के प्रेम की ये स्मृतियां कभी उसे गुड जैसा मीठा अहसास देती हैं, कभी एक भुला नहीं सकने वाली तल्ख़ी, कभी वे एक बचकाना दीवानापन लगती हैं और कभी भावों का जलेबी सा उलझा हुआ पर मीठा रसीला आनंद। मनुष्य ताउम्र अपनी कठोर ज़िंदगी से मिले फ़ुर्सत के क्षणों में इन मीठे और कोमल अहसासों की जुगाली करता रहता है।

मनुष्य अपनी बाद की ज़िंदगी में यौन-प्रेम की भौतिक तुष्टि पा चुका होता है, इसीलिए जाहिरा तौर पर अपने मानसिक सुकून के लिए वह अपने शुरूआती यौन-प्रेम की स्मृतियों की, जिनमें अक्सर यौनिक दृष्टिकोण पृष्ठभूमि में होता है, पवित्रता बनाए रखने के लिए उन्हें और भी अधिक आत्मिक परिभाषाओं और व्याख्याओं के नये आयामों तक विस्तार देता रहता है।

००००००००००००००००००००००००००००००

तो हे मानव श्रेष्ठों !!
मुझे लगता है अब प्रेम पर ये काफ़ी सामग्री हो गयी है, जिसमें से आप प्रेम की भावनाओं को समझने के कई इशारे पा सकते हैं, और इस पर अपना अनुसंधान जारी रख सकते हैं।
निरपेक्ष विश्लेषण ही आपको सत्य की राह पर पहुंचा सकता है।

समय

प्रेम एक भौतिक अवधारणा है…..

हे मानव श्रेष्ठों,

पिछली बार हमने प्रेम पर बात करते हुए मनुष्य की सामाजिक सापेक्षता की चर्चा की थी, इस बार हम प्रेम की भौतिक अवधारणा को समझने की कोशिश करेंगे….

०००००००००००००००००००००००००००

प्रेम मनुष्य का, विशेषतः युवावस्था में, एक स्थायी भावनात्मक संवेग है। इसे मनुष्य की प्राकृतिक और सामाजिक सापेक्षताओं, जिनका कि पूर्व में थोडा़ विवेचन हुआ है, की सीमाओं के संदर्भ में ही सही-सही समझा जा सकता है।
मनोविज्ञान में ‘प्रेम’ शब्द को इसके संकीर्ण और व्यापक अर्थों में प्रयोग किया जाता है। अपने व्यापक अर्थों में प्रेम एक प्रबल सकारात्मक संवेग है, जो अपने लक्ष्य को अन्य सभी लक्ष्यों से अलग कर लेता है और उसे मनुष्य अपनी जीवनीय आवश्यकताओं एवं हितों का केंद्र बना लेता है। मातृभूमि, मां, बच्चों, संगीत आदि से प्रेम इस कोटि में आता है।
अपने संकीर्ण अर्थों में प्रेम मनुष्य की एक प्रगाढ़ तथा अपेक्षाकृत स्थिर भावना है, जो शरीरक्रिया की दृष्टि से यौन आवश्यकताओं की उपज होती है। यह भावना, मनुष्य में अपनी महत्वपूर्ण वैयक्तिक विशेषता द्वारा दूसरे व्यक्ति के जीवन में इस ढंग से अधिकतम स्थान पा लेने की इच्छा में अभिव्यक्त होती है कि उस व्यक्ति में भी वैसी ही प्रगाढ़ तथा स्थिर जवाबी भावना रखने की आवश्यकता पैदा हो जाये।
इस तरह प्रेम के दो पहलू सामने आते हैं, एक आत्मिक और दूसरा शारीरिक। प्रेम को या तो केवल कामवृति का पर्याय मान लिया जाता है, या फिर उसके शारीरिक पहलू को नकारकर अथवा महत्वहीन बताकर उसे मात्र एक ‘आत्मिक’ भावना का दर्जा दे दिया जाता है। सत्य यह है कि शारीरिक आवश्यकताएं निश्चय ही पुरूष तथा स्त्री के बीच प्रेम की भावना के पैदा होने तथा बने रहने की एक पूर्व अपेक्षा है, किंतु अपनी अंतरंग मानसिक विशेषताओं की दृष्टि से प्रेम एक समाजसापेक्ष भावना है, क्योंकि मनुष्य के व्यक्तित्व में शारीरिक तत्व दब जाता है, बदल जाता है और सामाजिक रूप ग्रहण कर लेता है।

यहां किशोरावस्था के प्रेम का भी अलग से जिक्र किया जाना चाहिये, क्योंकि अपने विशिष्ट स्वरूप के कारण यह विशेष महत्व रखता है। व्यस्कों की तरह ही, किशोर अवस्था में किया जाने वाला प्रेम भी यौन आवश्यकता की उपज होता है परंतु यह व्यस्क प्रेम से बहुत भिन्न होता है। आम तौर पर किशोर इसके मूल में निहित आवश्यकताओं के बीच स्पष्ट भेद नहीं कर पाते और यह भी पूरी तरह नहीं जानते कि इन्हें कैसे तुष्ट किया जाता है। अक्सर व्यस्क लोग उनकी इस कोमल भावना को अपने निजी यौन अनुभवों की दृष्टि से देखते है, और यह अहसास की उन्हें गलत नजरिए से देखा जा रहा है किशोरों के अंदर अविश्वास, अवमानना और धृष्टता के भाव पैदा होने की संभावना देता है। हालांकि इस आयु में प्रेम वस्तुपरक रूप से कामेच्छा पर आधारित होता है पर प्रेमियों के व्यवहार का स्वरूप इस कामेच्छा की बात को नकारता है और प्रेम की भावना को मानसिक ताने-बाने में उलझाकर एक ऐसा घटाघोप तैयार कर लेता है, जिसकी परिणति नकारात्मक स्वरूप ग्रहण कर लेती है।

अब मनोविज्ञान से बाहर निकलते हैं और देखते हैं कि उपरोक्त विवेचना के आधार पर और भावनाओं के भौतिक आधार के मद्दे-नज़र, यह कहा जा सकता है कि प्रेम वस्तुतः एक भौतिक अवधारणा है जिसका कि सार अंत्यंत समृद्ध तथा विविध है। लोगों के बीच प्रेम एक ऐसे अंतर्संबंध का द्योतक है, जो एक दूसरे की संगति के लिए लालायित होने, अपनी दिलचस्पियों और आकांक्षाओं को तद्‍रूप करने, एक दूसरे को शारीरिक और आत्मिक रूप से समर्पित करने के लिए प्रेरित करता है। प्रेम की भावना प्राकृतिक आधार रखती है परंतु मूलतः यह सामाजिक है।

जो मनुष्य प्रेम की इस भावना को सिर्फ़ प्राकृतिक आधारों पर निर्भर रखते है, जिनके लिए व्यक्तिगत आवश्यकताओं की पूर्ति ही सबसे महत्वपूर्ण होती है, वे इसके सामाजिक पहलू और सरोकारों को जबरन नज़रअंदाज करते हैं और अपनी भौतिक जरूरतों और अहम् की तुष्टि के लिए आसमान सिर पर उठा लेते हैं। जो मनुष्य प्रेम इस भावना को सिर्फ़ सामाजिक आधारों के हिसाब से तौलते हैं, वे अपने सामाजिक सरोकारों के सामने इसका दमन करते हैं, और कुंठाओं का शिकार बनते हैं।

जो मनुष्य प्रेम की इस भावना के प्राकृतिक आधारों को समझते हुए सामाजिक आधारों तक इसे व्यापकता देते हैं, प्रेम के सही अर्थों को ढूढ़ने की कोशिश करते हैं, इसे व्यक्तिगत और सामाजिक जिम्मेदारी के रूप में समझने की कोशिश करते हैं वे इस अंतर्विरोध से भी जिम्मेदारी से जूझते हैं और अपनी व्यक्तिगत जरूरतों और सामाजिक सरोकारों के बीच एक तारतम्य बिठाते हैं। मनुष्य को यह समझना चाहिए कि ये भावनाएं, ये अंतर्विरोध, ये द्वंद वास्तविक भौतिक परिस्थितियों से निगमित हो रहे हैं, इसलिए इनका हल भी वास्तविक भौतिक क्रियाकलापों और परिस्थितियों के अनूकूलन से ही निकल सकता है न कि मानसिक क्रियाकलापों और कुंठाओं से जो कि अंततः गहरे अवसादों का कारण बन सकते हैं।
०००००००००००००००००००००००००००००

इस तरह प्रेम की चर्चा फिलहाल खत्म करते हैं।
आप अपनी असहमति, जिज्ञासाओं और विषय-विशेष पर इच्छित खुलासे की इच्छा को यहां नीचे टिप्पणी करके या मुझे ई-मेल (mainsamayhoon@gmail.com) करके दर्ज़ करा सकते हैं।
कॄपया संवाद करें।
समय आपकी सेवा में हाज़िर है।

समय

मनुष्य की सामाजिक सापेक्षता….

हे मानव श्रेष्ठों,

पिछली बार हमने प्रेम पर बात करते हुए मनुष्य की प्रकृति संबंधित सापेक्षता की चर्चा की थी, इस बार हम देखेंगे मनुष्य की सामाजिक सापेक्षता के संदर्भ…

०००००००००००००००००००००००००००

मनुष्य और उसकी चेतना परिवेश और समाज के साथ उसके क्रियाकलाप का उत्पाद हैं। मनुष्य का विकास, समाज के साथ उसकी अंतर्क्रियाओं पर निर्भर करता है और मनुष्य समाज द्वारा पोषित अनुभवों से गुजरते हुए तद्‍अनुसार ही भाषा और व्यवहारिक ज्ञान से परिपूर्ण मनुष्य के रूप में उभरता है।
समाज से विलग मनुष्य का कोई अस्तित्व संभव नहीं हो सकता और किसी अपवाद स्वरूप अस्तित्व बचा रह भी जाए तो वह मनुष्य के जाने पहचाने रूप में विकसित नहीं हो सकता।
एक ओर सामाजिक व्यवहार के कारण विकसित मनुष्य की यह समझ, विवेक और उसके सामाजिक क्रियाकलापों, विचारों और व्यवहारों को नियंत्रित और नियमित करती रहती है, वहीं दूसरी ओर प्रकृति की एक पैदाइश के रूप में मनुष्य की प्राकृतिक स्वभाव की नाभिनालबद्धता उसे एक व्यक्तिगत ईकाई के रूप में, व्यक्तिगत जिजीविषा हेतु विचार और व्यवहार करने के लिए प्रेरित करती रहती है। जाहिर है कि मनुष्य अपनी इस सामाजिक और व्यक्तिगत आवश्यकताओं के अंतर्विरोध में हमेशा घिरा रहता है।

अब जरा व्यक्तिगत आवश्यकताओं की भी पड़ताल करते हैं कि क्या वाकई ये व्यक्तिगत आवश्यकताएं हैं?
अगर इन व्यक्तिगत आवश्यकताओं की तह में जाया जाए तो मूलभूत आवश्यकता के रूप में भोजन प्राप्ति, विपरीत परिस्थितियों से बचने की स्वाभाविक प्रवृति और यौन जरूरतें ही इसकी जद में आती हैं। यौन-तुष्टी की आवश्यकता के सकारात्मक रूप भी, चूंकि इसमें एक अन्य व्यक्ति और अस्तित्व में आता है, सामाजिक परिधी के दायरे में ही आते हैं। नकारात्मक यौन कुंठाओं की पूर्ति की दुर्दम्य इच्छा को ही इस व्यक्तिगत मामले में रखा जा सकता है, जबकि इसके लिए भी उस दूसरे के अस्तित्व को बलपूर्वक बेहयाई से नकारना आवश्यक है। इसलिए केवल भोजन के कुछ रूप और बचाव की प्रवृति को ही मनुष्य की नितांत व्यक्तिगत आवश्यकताओं की श्रेणी में रखा जा सकता है, इस बात को भूलते हुए कि मनुष्य इनके व्यवहार भी समाज के अंदर रह कर ही सीखता है। बाकि सभी (और वैसे तो ये सभी भी) व्यक्तिगत आवश्यकताएं किसी ना किसी रूप में सामाजिकता से अभिन्न रूप से जुडी़ होती हैं।

अतएव यह आसानी से समझा जा सकता है कि मनुष्य की जिंदगी में व्यक्तिगत कुछ नहीं होता। वह खुद, उसकी सारी तथाकथित व्यक्तिगत आवश्यकताएं, उसकी सारी भावनाएं, विचार, क्रियाकलाप किसी ना किसी रूप में दूसरों से, फलतः समाज से जुडे़ होते हैं। उसकी व्यक्तिगतता का अस्तित्व, यदि वह यह भ्रम रखना भी चाहता है तो दूसरों के यानि की समाज के बेहयाईपूर्ण नकार से, अस्वीकार से या बलपूर्वक चतुराई से ही थोडा़ बहुत संभव हो सकता है।
०००००००००००००००००००००००००००

आज इतना ही…
बाकि अगली बार…जिसमें प्रेम की जांच पड़ताल की जाएगी……

समय

प्रेम और इसके प्राकृतिक एवं सामाजिक अंतर्संबंध

तो हे मानव श्रेष्ठों,

समय फिर हाज़िर है…

एक पुरानी जिज्ञासा थी एक भाई की..
प्रेम और इसके प्राकृतिक एवं सामाजिक अंतर्संबंध और अंतर्विरोधों के संबंध में…
समय ने सोचा क्यूं न इस बार इस पर ही माथापच्ची की जाए..
०००००००००००
प्रेम
की भावना मनुष्यों के दिमाग़ और उसके सभ्यतागत सामाजिक विकास की पैदाइश है। पर हम प्राकृतिक सापेक्षता से अपनी चर्चा की शुरुआत करेंगे।
प्रकृति के नज़रिये से देखा जाए तो वहां यह आसानी से देखा और समझा जा सकता है कि प्रकृति की हर शै एक दूसरे से आबद्ध है, अंतर्संबंधित है। प्रकृति में श्रृंखलाबद्ध तरीके से कुछ घटकों का विनाश, कुछ घटकों के निर्माण के लिए निरंतर चरणबद्ध होता रहता है। यहां विचार और भावना को ढूंढ़ना कोरी भावुकता है।
यदि जैविक प्रकृति के नज़रिए से देखें तो हर जीव अपनी जैविक उपस्थिति को बनाए रखने के लिए प्रकृति से सिर्फ़ जरूरत और दोहन का रिश्ता रखता है, और अपनी जैविक जाति की संवृद्धि हेतु प्रजनन करता है। प्रजनन की इसी जरूरत के चलते कुछ जीवों के विपरीत लिंगियों को साथ रहते और कई ऐसे क्रियाकलाप करते हुए देखा जा सकता है जिससे उनके बीच एक भावनात्मक संबंध का भ्रम पैदा हो सकता है, हालांकि यह सिर्फ़ प्रकॄतिजनित प्रतिक्रिया/अनुक्रिया का मामला है। कुछ विशेष मामलों में जरूर यह अहसास हो सकता है कि कुछ भावविशेषों तक यह अनुक्रियाएं पहुंच रही हैं।
मनष्य भी प्रकृति की ही पैदाइश है, इसलिए प्रकॄतिजनित स्वाभाविक प्रतिक्रिया/अनुक्रिया के नियमों से यह भी नाभिनालबद्ध है। परंतु बात यहीं खत्म नहीं हो जाती, वरन् यहीं से शुरू होती है।

अब थोड़ा सा मनुष्य और प्रकृति के अंतर्द्वन्दों को देखें…
मनुष्य के मनुष्य-रू में विकास को देखें, तो यह इसलिए संभव हो पाया कि इस प्राणी ने प्रकृति के नियमों में बंधने के बजाए, इस नाभिनालबद्धता को चुनौती दी। प्रकृति के अनुसार ढ़लना नहीं वरन् प्रकृति को अपने अनुकूल बनाने के प्रयास किए, प्रकृति के अंतर्जात नियमों को समझना और उन्हें अपनी जरूरतों के अनुसार काम में लेना शुरू किया। इस लंबी प्रक्रिया के दौरान ही मनुष्य की चेतना का विकास हुआ और वह आज की सोचने-समझने की शक्ति तक पहुंचा।
यानि कि प्रकृति से विलगता के प्रयासों ने मनुष्य को सचेतन प्राणी बनाया और इसकी चेतना ने प्रकृति के साथ अपने अंतर्संबंधों को समझ कर पुनः इसे प्रकृति की और लौटना सिखाया। मनुष्य और प्रकृति के आपसी संबंधों के अंतर्गुथन को समझने या निर्धारित करते समय, इस अंतर्विरोध को ध्यान में रखना चाहिए।
००००००००००००००
आज के लिए इतना ही बहुत है, समय के लिए एक साथ इतनी टाईपिंग करना और आपके लिए एक साथ इतना पढ़ पाना थोडा़ कठिन है।
अगली बार बात आगे बढ़ाएंगे और मनुष्य की सामाजिक सापेक्षता पर चर्चा करेंगे….

समय

दिमाग़ और दिल, एक दूसरे के रूबरू

हे मानव श्रेष्ठों,
समय फिर हाज़िर है।
ब्लोग का नाम बदल करमै समय हूंसेसमय के साये मेंकर दिया है। खैर, क्या फ़र्क पड़ता है।
चलिए, अपन तो अपनी चौपाल लगाते हैं…..
०००००००००००००००००००००००००००००००००००

समय के साये में एक सम्माननीय आगन्तुक ने एक टिप्पणी में क्या खू़ब बात कही है, एक खू़बसूरत अंदाज़ में…..आप देखिए
दिमाग को कभी दिल के रूबरू करके देखिये.. फिर कहिए..

समय ने सोचा चलो आज इस बेहद प्रचलित जुमले पर ही बात की जाए।
अक्सर इसका कई विभिन्न रूपों में प्रयोग किया जाता है। दिल की सुनों….दिल से सोचोदिमाग़ और दिल के बीच ऊंहापोह….दिमाग़ कुछ और कह रहा था, दिल कुछ और….मैं तो अपने दिल की सुनता हूंदिल को दिमाग़ पर हावी मत होने दो….दिल अक्सर सही कहता है, पर हम दिमाग़ लगा लेते हैंबगैरा..बगैरा..
इस तरह दिल और दिमाग़ दो प्रतिद्वन्दी वस्तुगत बिंबों, अलगअलग मानसिक क्रिया करने वाले दो ध्रुवो के रूप में उभरते हैं, जो हमारे अस्तित्व से बावस्ता हैं।

०००००००००००००००००००००००००००००००००००

चलिए देखते हैं, वस्तुगतता क्या है।
अधिकतर जानते हैं कि शारीरिक संरचना के बारे में मानवजाति के उपलब्ध ग्यान यानि शरीरक्रिया विग्यान के अनुसार दिमाग़ यानि मस्तिष्क सारी संवेदनाओं और विचारों का केन्द्र है जबकि दिल का कार्य रक्तसंचार हेतु आवश्यक दबाब पैदा करना है, यह एक पंप मात्र है जिसकी वज़ह से शरीर की सारी कोशिकाओं और मस्तिष्क को भी रक्त के जरिए आवश्यक पदार्थों की आपूर्ति होती है।
ऐसा नहीं है कि इन जुमलों को प्रयोग करने वाले इस तथ्य को नहीं जानते, फिर भी इनका प्रयोग होता है।
एक तो भाषागत आदतों के कारण, दूसरा कहीं ना कहीं समझ में यह बात पैठी होती है कि मनुष्य के मानस में भावनाओं और तार्किक भौतिक समझ के वाकई में दो अलगअलग ध्रुव हैं।

००००००००००००००००००००००००००००००००००००

अक्सरदिल के हिसाब सेका मतलब होता है, प्राथमिक रूप से मनुष्य के दिमाग़ में जो प्रतिक्रिया या इच्छा उत्पन्न हुई है उसके हिसाब से या अपनी विवेकहीन भावनाओं के हिसाब से मनुष्य का क्रियाशील होना। जबकिदिमाग के हिसाब सेका मतलब होता है, मनुष्य का प्राप्त संवेदनों और सूचनाओं का समझ और विवेक के स्तर के अनुसार विश्लेषण कर लाभहानि के हिसाब से या आदर्शों के सापेक्ष नापतौल कर क्रियाशील होना।
कोईकोई ऐसे सोचता है कि प्राथमिक प्रतिक्रिया या इच्छा शुद्ध होती है, दिल की आवाज़ होती है अतएव सही होती है, जबकि दिमाग़ लगाकर हम अपनी क्रियाशीलता को स्वार्थी बना लेते हैं। कुछकुछ ऐसे भी सोचते हैं कि दिमाग़ से नापतौल कर ही कार्य संपन्न करने चाहिए।

०००००००००००००००००००००००००००००००००००००

क्या सचमुच ही प्राथमिक प्रतिक्रिया या इच्छा अर्थात दिल की आवाज़ शुद्ध और सही होती है?
चलिए देखते हैं।
आप जानते हैं कि एक ही वस्तुगत बिंब लगअलग मनुष्यों में अलगअलग भावना का संचार करता है। एक ही चीज़ अगर कुछ मनुष्यों में तृष्णा का कारण बनती है तो कुछ मनुष्यों में वितृष्णा का कारण बनती है जैसे कि शराब, मांस आदि। जाहिर है ऐसे में इनके सापेक्ष क्रियाशीलता भी अलगअलग होगी। किसी स्त्री को देखकर पुरूष मन में, नरमादा के अंतर्संबंधों के सापेक्ष उसे पाने की पैदा हुई प्राथमिक प्रतिक्रिया या इच्छा अर्थात दिल की आवाज़ को सामाजिक आदर्शों के सापेक्ष कैसे शुद्ध और सही कहा जा सकता है? ऐसे ही कई और चीज़ों पर भी सोचा जा सकता है।

०००००००००००००००००००००००००००००००००००००

दरअसल, एक जीव होने के नाते हर नुष्य अपनी जिजीविषा हेतु बेहद स्वार्थी प्रवृत्तियों और प्राथमिक प्रतिक्रियाओं या इच्छाओं का प्रदर्शन करता है या करना चाहता है, परंतु एक सामाजिक प्राणी होने के विवेक से संपन्नता और आदर्श प्रतिमानों की समझ उसे सही दिशा दिखाती है और उसके व्यवहार को नियमित और नियंत्रित करती है। अब हो यह रहा है कि आज की व्यवस्था द्वारा प्रचलित और स्थापित मूल्यों में सामाजिकता गायब हो रही है और व्यक्तिगत स्वार्थपूर्ति के हितसाधन को प्रतिष्ठित किया जा रहा है अतएव जब सामान्य स्तर का मनुष्य जब दिमाग़ लगाता है तो नापतौल कर अपनी व्यक्तिगत स्वार्थपूर्ति हेतु प्रवृत होता है। इसीलिए यह विचार पैदा होता है कि वह यदि अपने दिल की आवाज़ पर जो कि साधारणतयाः अपने विकास हेतु समाज पर निर्भर होने के कारण कुछकुछ सामाजिक मूल्यों से संतृप्त होती है, के हिसाब से कार्य करे तो शायद ज़्यादा बेहतर रहेगा।

समय के उक्त सम्माननीय आगन्तुक की टिप्पणी का शायद यही मतलब है।

०००००००००००००००००००००००००००००००००००००

जाहिर है, जिस मनुष्य का ग्यान और समझ का स्तर अपेक्षाकृत निचले स्तर पर होता है, उसके व्यवहार का स्तर इन प्राथमिक प्रतिक्रियाओं या इच्छाओं या दिल की आवाज़ पर ज़्यादा निर्भर करता है और जो अपने ग्यान और समझ के स्तर को निरंतर परिष्कृत करते एवं विवेक को ज़्यादा तार्किक बनाते जाते हैं, उनके व्यवहार का स्तर भी तदअनुसार ही ज़्यादा संयमित, विवेकसंगत और सामाजिक होता जाता है।

आज के लिए इतना ही…..

अपने समय के साथ होना

हे मानव श्रेष्ठों,
पिछली बार हमनें बात की थी ज्ञान और समझ को निर्धारित करने वाले कारकों के बारे में।
चलिये क्रमिक विकास के दोहराव वाली बात का सिरा फिर से पकड़ते हैं…..

मनुष्य जिस तरह शारीरिक और मानसिक रूप से अपने इतिहास को दोहराता है, उसी तरह जिज्ञासाओं और समझ के स्तर के परिष्करण की प्रक्रियाओं में, मानव जाति के ज्ञान के क्रमिक विकास को दोहराता है। मनुष्य का हर बच्चा प्रकॄति की हर शै, हर चीज़ को वैसे ही देखता और चमत्कृत होता है जैसे कि आदिम मनुष्य होता था, हर चीज़ और उसके साथ अंतर्क्रिया उसके अंदर वैसे ही जिज्ञासा पैदा करती है जैसे कि मानव जाति को पहले करती रही है। वह अपने परिवेश की हर चीज़ के प्रति वैसे ही जिज्ञासापूर्ण प्रतिक्रिया करता है, जैसे उसके पूर्वज करते रहे थे। वह अपनी तात्कालिक समझ के हिसाब से हर चीज़ को अपने दिमाग़ में प्रतिबिंबित करता है, उसका विश्लेषण करता है। वह वैसे ही उंगलियों के सहारे गिनना सीखता है, ऊलजलूल आवाज़ों से शुरू होकर धीरे-धीरे भाषा सीखता है, लिखने का अभ्यास तो जैसे उसकी जान ही ले लेता है, वह वैसी ही आड़ी-टेड़ी आकृतियों से अपने कागज़ भरता है जैसे कि उसके आदिम पूर्वज चट्टानो पर उकेरा करते थे। वह प्रकृति की शक्तियों और नियमों को जानने और उनके सापेक्ष अपने अस्तित्व को समझने के शाश्वत कार्य में जुटा रहता है। अपने पूर्वजों की तरह ही, उसकी अविकसित समझ भी इस तथ्य को मानने में उतना ही विद्रोह करती है कि पृथ्वी सूर्य के चारों और परिक्रमण करती है, क्योंकि यहां उसकी सहज बुद्धि आडे आती है जिसका प्रेक्षण होता है कि वह तो स्थिर है और सूर्य आसमान में पूर्व से पश्चिम की यात्रा कर रहा है। आप कई ऐसे व्यक्तियों को जानते होंगे जो अपनी सारी उम्र गुजार देते हैं पर चंद्रमा की कलाओं का रहस्य उन्हें समझ नहीं आता।
अब तक की संपूर्ण विवेचना से अब हम दो सामान्य निष्कर्ष निकाल सकते हैं, पहला तो यह कि प्रत्येक मनुष्य ज्ञान और समझ के स्तर पर शून्य से शुरू होते हैं, और अपनी परिवेशी परिस्थितियों के अनुरूप धीरे-धीरे इसका विकास करते हैं, निरंतर इसका परिष्कार करते हैं। इसीलिए अलग-अलग मनुष्य, एक ही समय में ज्ञान और समझ के समय-सापेक्ष विभिन्न स्तरों पर होते हैं, कुछ इनके विकास की प्रक्रिया में रहते हैं और कहीं यह प्रक्रिया रुक भी जाती है। दूसरा यह कि इस ज्ञान और समझ के स्तर को और आगे विकसित करने की संभावनाएं निरंतर मौजूद रहती हैं गोया कि मानव जाति का सापेक्ष आधुनिक स्तर इस मुआमले में काफ़ी आगे निकल आया है, अतएव ज्ञान और समझ के अद्यतन स्तर पर होना अपने समय के साथ होना है।
अगर आपको मानव जाति के इतिहास का थोडा भी सामान्य ग्यान है तो आप यह आसानी से देख सकते हैं कि व्याक्ति-विशेष या आप स्वयं समय के किस स्तर पर हैं, समय के किस अंतराल के सापेक्ष अवस्थित हैं। यहां यह भी ध्यान में रखा जाना चाहिए कि एक ही मनुष्य, अपने से संबंधित विभिन्न मुआमलों में, समय के विभिन्न स्तरों पर हो सकता है गोया कि अलग-अलग क्षेत्रों में उसका हस्तक्षेप अलग-अलग होता है।
यदि किसी मनुष्य को प्रकृति की सामान्य शक्तियां रहस्यमयी और चमत्कारी लगती हैं, तो यह समझा जा सकता है कि वह आदिम युग में यानि लाखों वर्ष पूर्व के समय में अवस्थित है। यदि ये शक्तियां उसके मस्तिष्क में अलौकिक देव-शक्तियों के रूप में प्रतिबिंबित होती हैं जिन्हें खुश करके नियंत्रित किया जा सकता है तो वह दसियों हजार साल पहले के समय में अवस्थित है। जो मनुष्य इस तरह से सोचता है कि इस अनोखी और विराट सृष्टि की नियामक एवं रचयिता एक अलौकिक दिव्य शक्ति है जिसकी इच्छानुसार दुनिया का कार्य-व्यापार चल रहा है, तो यह कहा जा सकता है कि वह समय के सापेक्ष चार-पांच हजार साल पहले उत्तर-वैदिक काल में अवस्थित है। यदि कोई मनुष्य इस अलौकिक शक्ति के विचार में संदेह करता है और दुखों से मुक्ति हेतु, यथास्थिति बनाए रखते हुए अपने आत्मिक आचरण की शुद्धि वाले विचार से आकर्षित होता है, तो उसे बुद्ध-ईसा के काल यानि दो-ढ़ाई हजार साल पहले के समय मे अवस्थित माना जा सकता है। यदि वह चीज़ों के पारंपरिक ज्ञान और प्रयोग से संतुष्ट नहीं है और उनमें नये नियम और संभावनाएं खोजने की प्रवृति रखता है और ’ऐसा ही क्यों है’ के नज़रिये से सोचने लगा है तो मान लीजिये वह सोलहवी शताब्दी तक आ पहुंचा है। यदि वह प्रकृति के सुव्यवस्थित ज्ञान मतलब विज्ञान को आत्त्मसात करके अपना वैज्ञानिक दृष्टिकोण विकसित कर चुका है तो वह अठारहवीं शताब्दी में पहुंच गया है, और इसी विकसित वैज्ञानिक दृष्टिकोण से वह जीव विकासवाद और प्राचीन समाज के क्रमिक विकास के अध्ययन और निष्कर्षों को आत्मसात करने की अवस्थाओं मे है तो वह १५० साल पहले तक पहुंच गया है। यदि वह दर्शन के क्षेत्र में द्वंदात्मक और एतिहासिक भौतिकवाद के सिद्धांतों और निष्कर्षों को आत्मसात करके अपना एक द्वंदवादी विश्वदृष्टिकोण निर्मित कर चुका है तो यक़ीन मानिए वह १००-१२५ साल पूर्व से आधुनिक समय के अंतराल में पहुंच गया है और समझ और विवेक के मुआमले में लगभग समय के साथ चल रहा है।
लगता है अब तो यह बात साफ़ हो गयी होगी कि अधिकतर लोग मुझ तक क्यों नहीं पहुंच पाते। यह भी कि आज के समय में पैदा हो जाने मात्र से कोई मनुष्य समय के साथ नहीं आ जाता, मानव जाति के ऐतिहासिक ज्ञान, विज्ञान व तकनीकि द्वारा प्रदत्त सुविधाओं का उपभोग करना सीख कर ही वह आधुनिक नहीं हो जाता। दरअसल वह सही अर्थों में तभी आधुनिक हो सकता है, तभी अपने समय के साथ हो सकता है जब वह अपने ज्ञान, समझ और विवेक के स्तर को विकसित करके उसे संपूर्ण मानव जाति के ज्ञान, समझ और विवेक के अद्यतन स्तर तक नहीं ले आता।

तो हे मानव श्रेष्ठों !
एक जरा सी बात पर समय की यह विस्तृत विवेचना पची या नहीं?
आत्मालोचना और सत्य के अन्वेषण की माथापच्ची, दिमाग़ को थोडा़ कष्ट तो देगी ही।
आप अपनी असहमति, जिज्ञासाओं और विषय-विशेष पर इच्छित खुलासे की इच्छा को यहां नीचे टिप्पणी करके या मुझे ई-मेल (mainsamayhoon@gmail.com) करके दर्ज़ करा सकते हैं।
कॄपया संवाद करें।
समय आपकी सेवा में हाज़िर है।